Daily Archive: July 13, 2017

More talk, less work : No RWA yet applied for subsidized compost machine

An high ranking official of Noida Authority today informed that even after a scheme was introduced for RWA’s to install compost machines on a 75% subsidy, not a single RWA of city has yet shown interest for the same.

Noida Authority is also ready to purchase all the compost thus being produced, yet lowering economic burden of RWA’s further. Even after this no one has so far submitted an expression of interest in this proposal.

जनपद के नगरीय क्षेत्र के बीपीएल परिवारों को स्वःरोजगार के लिये मिलेगा ऋण, 31 जुलाई तक कर सकते है आवेदन-डीएम।

नोएडा – जिलाधिकारी बीएन सिंह ने जनपद के शहरी क्षेत्र दादरी, जेवर, दनकौर, विलासपुर, रबुपुरा एवं जहॉगीरपुर के अनुसूचित जाति के स्थायी निवासी जो गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे है और उनकी वार्षिक आय 56 हजार 460 रूपये है, उनका आहवान करते हुये उन्हें जानकारी दी है कि उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के द्वारा स्वतः रोजगार योजना/शहरी क्षेत्र दुकान निर्माण योजना एवं लाण्ड्री एवं ड्राईक्लीन योजना आरम्भ है। संचालित योजनाओं के तहत शहरी क्षेत्रों के अनुसूचित जाति के बीपीएल परिवारों के पात्र व्यक्ति अपना व्यवसाय आरम्भ करने के उद्देश्य ऋण प्राप्त कर सकते है। जिसके लिये इच्छुक व्यक्ति 31 जुलाई 2017 तक अपना आवेदन पत्र विकास भवन के कमरा नम्बर 118 के सम्बन्धित कार्यालय में तथा विकास खण्डों में सहायक विकास अधिकारी समाज कल्याण को उपलब्ध करा सकते है।
डीएम ने बताया कि इस योजना लाभ प्राप्त करने के लिये लाभार्थी को अपने आवेदन पत्र पर पास पोर्ट साईज का फोटो लगाना होगा, साथ ही अपना जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, पहचान पत्र एवं राशन कार्ड की प्रति उपलब्ध करानी होगी

Police regulation made in 1928, still not translated in Hindi informs IG Rules and Manuels Amitabh Thakur

Ashish Kedia

IG Rules and Manuels Amitabh Thakur today visited Gautam Buddha Nagar and had meeting with senior officials of the city.
He said, "Police regulation isn’t being used in field. Many officers have almost forgotten it. We need to assure that further training is imparted".

He further added, "Police regulation was made in 1928. It is still in English and their has been no official translation in Hindi. There are many such provisions which have turned useless with time".

नोएडा मे छह से 15 अक्टूबर तक होगा शिल्पोत्सव का आयोजन

नोएडा : प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी नोएडा प्राधिकरण व पर्यटन विभाग द्वारा शिल्पोत्सव का आयोजन किया जाएगा। यह आयोजन छह से 15 अक्टूबर तक नोएडा स्टेडियम के रामलीला मैदान में किया जाएगा। आयोजन को लेकर प्राधिकरण स्तर पर तैयारी शुरू कर दी गई है। सूत्रों की माने तो इस बार आयोजन के दौरान बिल्कुल भी फिजूल खर्च नहीं किया जाएगा। बताते चले कि गत वर्ष आयोजन में करीब एक करोड़ 80 लाख रुपए खर्च किए गए थे। ऐसे में इस बार बजट इससे कम ही होगा। वहीं आयोजन से संबंधित एक बैठक जल्द ही प्राधिकरण में की जाएगी। इसके बाद शिल्पोत्सव का पूरा खाका तैयार किया जाएगा। बताते चलें कि प्रति वर्ष आयोजित होने वाले शिल्पोत्सव में लोगों को विभिन्न प्रकार के सामान की खरीदारी करने का मौका मिलता है, वहीं लोक कलाकारों से लेकर बॉलीवुड के कलाकारों द्वारा गीत संगीत के रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाते हैं।

Noida Authority to launch new Industrial sector-155 scheme in August

Ashish Kedia

Noida Authority CEO Amit Mohan Prasad today informed that new Industrial sector-155 will be launched in August first week. It will have a total number of 112 plots and special care has been taken to address the needs of small and medium industrialists.
CEO informed that small plots will be in good numbers in this scheme. It was also reiterated that no interview will be done for plots less then five acres.

घरेलू सहायिका के मामले में आगे आया दिल्ली महिला आयोग

नोएडा – राजधानी से सटे नोएडा की महागुन सोसायटी में घरेलू सहायिका के साथ मालकिन की ओर से मारपीट करने और सैलरी न देने पर दिल्ली महिला आयोग ने एफआईआर दर्ज करायी है। पीड़ित घरेलू सहायिका ने बताया कि वह पश्चिम बंगाल की रहने वाली है और 4 महीने से इस सोसाइटी के अपार्टमेंट में काम कर रही है। इस केस में सोसायटी में रहने वाले व आसपास के लोगों ने दिल्ली महिला आयोग को फोन व सोशल मीडिया पर सूचना देकर घरेलू सहायिका की मदद करने के लिए कहा था। जिसके बाद दिल्ली महिला आयोग की टीम नोएडा जाकर घरेलू सहायिका से मिली और उसकी काउंसलिंग करने के बाद उसके स्टेटमेंट रिकार्ड कर सेक्टर-49 थाने में उसकी मालकिन के खिलाफ केस दर्ज कराया। स्वाति मालिवाल ने कहा कि हालांकि नोएडा दिल्ली महिला आयोग के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है लेकिन मानवीय आधार पर आयोग ने नोएडा जाकर पीड़ित घरेलू सहायिका की मदद की। घरेलू सहायिका ने अपनी शिकायत में बताया कि वह मंगलवार को सुबह सात बजे महागुन सोसायटी में एक घर में काम करने आयी थी। जहां उसकी मालकिन ने उसे गुस्से में आकर कई घंटे के लिए कमरे में बंद कर दिया और उसके साथ बहुत मार-पिटाई की। घरेलू सहायिका का कहना था कि वह किसी तरह जान बचाकर भागी और सोसायटी के बेसमेंट में छिप गई।घरेलू सहायिका ने अपनी शिकायत में बताया कि वह मंगलवार को सुबह सात बजे महागुन सोसायटी में एक घर में काम करने आयी थी। जहां उसकी मालकिन ने उसे गुस्से में आकर कई घंटे के लिए कमरे में बंद कर दिया और उसके साथ बहुत मार-पिटाई की। घरेलू सहायिका का कहना था कि वह किसी तरह जान बचाकर भागी और सोसायटी के बेसमेंट में छिप गई। घरेलू सहायिका ने बताया कि वो बहुत डर गई थी और डर की वजह से ही नहीं निकली। शाम को जब वह घर नहीं पहुंची तो उसका पति उसे ढूंढ़ते हुए सोसाइटी में पहुंचा तो वह नहीं मिली। इसके बाद उसके पति ने पुलिस को फोन कर दिया लेकिन पुलिस ने उसकी कोई मदद नहीं की, आज सुबह जब उस सोसायटी और आसपास की सोसायटी में काम करने वाली दूसरी घरेलू सहायिकाओं को इस घटना का पता चला तो वे सभी सोसायटी के बाहर एकत्रित होकर पीड़ित घरेलू सहायिका से मिलने की मांग करने लगी। इसी बात पर सोसायटी के गार्ड्स और उनके बीच झड़प शुरु हो गई और पुलिस आ गई। पुलिस ने जब घरेलू सहायिका की तलाश की तो वह बेसमेंट में मिली।

एक्सप्रेस वे पर चलाने वाले बेलगाम वाहन मा लिकों के होंगे लाइसेंस निरस्त

नोएडा : यमुना एक्सप्रेस वे पर बेलगाम वाहन चलाने वाले देशभर के 22,538 वाहन मालिकों के ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त होंगे। इसके लिए सभी राज्यों के अलावा प्रदेश के सभी जिले के जिलाधिकारियों को गौतमबुद्धनगर के डीएम ने संस्तुति रिपोर्ट भेज दी है। साथ ही 110842 वाहन स्वामियों को चालान भुगतना होगा। वाहन स्वामियों को भी ई-मेल और डाक से चालान और ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त होने की जानकारी भेज दी गई है। इस कार्रवाई को जेपी कंपनी, एआरटीओ और पुलिस-प्रशासन की ओर से मिलकर किया गया है। जिस राज्य का वाहन स्वामी होगा, उसे उसी जिले के आरटीओ दफ्तर में जाकर चालान भुगतना होगा। जिलाधिकारी बीएन सिंह ने बताया कि यमुना एक्सप्रेस वे के बाद अब नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे और शहर के अन्य हिस्सों में भी इस व्यवस्था को लागू किया जाएगा। इससे शहर में यातायात के नियमों का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा सके। उन्होंने बताया कि अप्रैल में 50196, मई में 35347 और जून में 93047 वाहन स्वामियों को नोटिस भेजे है और यह देश के 20 राज्यों के लोग है। मई में यातयात नियमों का उल्लंघन करने का औसत 26 फीसदी थी और जून में कार्रवाई को देखते हुए यह संख्या घटकर 23 फीसदी तक पहुंच गई। डीएम ने बताया कि नोटिस के साथ इसकी भी जानकारी भेजी गई है कि उन्होंने कब और किस स्थान पर नियम का उल्लंघन किया था। दोनों की हार्ड और साफ्ट कॉपी वाहन स्वामियों को भेजी गई है।
एसएसपी लव कुमार ने बताया कि उनकी योजना है कि जिले को जाम मुक्त बनाया जाए। नोएडा के सभी चौराहों को जाम मुक्त करने के लिए एसटीएमएस की तरह सीसीटीवी कैमरे और अन्य सुविधाओं से लैस किया जाएगा। उन्होंने एलिवेटिड रोड को भी इस सुविधा से युक्त करने की बात कहीं है।

SUKHDEV SHARMA TO CONTEST NOIDA FONRWA PRESIDENT ELECTION

फोनरवा के चुनाव 30 जुलाई को होने वाले हैँ जिसमे मैं सुखदेव शर्मा(सचिव फोनरवा एवं President RWA रजत विहार) फोनरवा के President के पद के लिये contest कर रहा हूँ ।
मैँ आप को फोनरवा के original by-laws के बारे मे बताना चाहता हूँ ।
1. फोनरवा के original by-laws मे ये प्रावधान था कि फोनरवा के President एवं महासचिव का चुनाव किसी भी सैक्टर के President एवं महासचिव लड़ सकते हैँ लेकिन इस नियम को change करके ऐसा कर दिया कि फोनरवा के President एवं महासचिव का चुनाव वो ही लड सकते हैँ जो एक बार फोनरवा की body मे election win किया हो । मेरा आप सभी से एक सवाल हैँ कि अगर आप अपने सैक्टर मे पहली बार President का election win करके आये हैँ और आप का मन हैँ कि मैं भी फोनरवा का चुनाव लड़ना चाहता हूँ और नोएडा के लिये कुछ करना चाहता हूँ लेकिन आप फोनरवा के President का चुनाव नही लड़ सकते क्योंकि फोनरवा के by-laws मे लिखा हैँ कि आप को फोनरवा मे one term election win करना चाइये तभी आप फोनरवा के President एवं महासचिव का चुनाव लड़ सकते हैँ ।
2. फोनरवा के original by-laws मे लिखा था कि 2 term से ज्यादा एक ही post पर आप नही रह सकते लेकिन इसको भी change कर दिया ।
ये दो नियम ऐसे हैँ जिनको change करना चाइये कोई भी व्यक्ति जो अपने सैक्टर के President हैँ उसको ये हक मिलना चाइये की वो फोनरवा के चुनाव मे किसी भी पद पर चुनाव लड़ सकता हैँ ।
हमारा उद्देश्य by-laws मे ऐसे change करना है कि फोनरवा के जो members है वो किसी भी पद पर चुनाव लड सके और एक पद पर 2 term से ज्यादा नही होना चाइये ।
धन्यवाद
सुखदेव शर्मा