Daily Archive: July 21, 2017

दलित के घर मे घुसकर मारपीट, ट्रैक्टर से गि राई दीवार

दलित के घर में घुसकर मारपीट, ट्रैक्टर से दीवार गिराई

झुप्पा गांव निवासी दलित परिवार ने गांव के ही दबंगों पर घर में घुसकर मारपीट व ट्रैक्टर से घर की दीवार गिराने, पशुओं को खोलकर भगाने व खेतों में खड़ी फसल को नष्ट करने और जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है।
पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर दो महिलाओं सहित दस लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर एक आरोपी को हिरासत में लिया है। झुप्पा निवासी संतलाल ने पुलिस दी शिकायत में आरोप लगाया है कि बुधवार शाम को वह, पत्नी, मां, बेटी व भाई के साथ घर में था।

इस दौरान गांव के गोक्लेश, विरेंद्र, मोती, सुरेश, श्यामी, मनोज, कर्मवती, उदयवीर, राहुल, धर्मवीर लाठी-डंडे व ट्रैक्टर लेकर उसके घर पहुंच गए। आरोपियों ने गाली गलौच व जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए मारपीट शुरू कर दी।

डी पार्क के झील में डूबने से 9वीं के छात्र क ी मौत

नोएडा – सेक्टर-62 स्थित डी पार्क में बने झील में बृहस्पतिवार सुबह 9वीं कक्षा का छात्र डूब गया। साथी युवक ने घटना के बारे में गार्ड को बताया। गार्ड की सूचना पर सेक्टर-58 पुलिस मौके पर पहुंची।

पुलिस ने छात्र को झील से निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया। जहां डॉक्टर ने जांच के बाद छात्र को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने बताया मूलरूप से बनारस निवासी भूषण परिवार के साथ दीपक विहार खोड़ा गाजियाबाद में परिवार के साथ रहते हैं।

वह सेक्टर-58 स्थित एक कंपनी में सिलाई कारीगर हैं। भूषण ने बताया कि उनका बेटा विशाल (18) खोड़ा के मदर टेरेसा में कक्षा 9 में पढ़ता था। सुबह तेज बारिश के बंद होने के बाद सुबह 11 बजे विशाल अपने दोस्त अमन के साथ सेक्टर-62 स्थित डी पार्क में बने झील में नहाने गया था, जिससे वह डूब गया।

सेक्टर-58 थाना प्रभारी दलीप सिंह बिष्ट ने बताया कि रात में हुई बारिश के चलते झील में ज्यादा पानी भर गया था।

SUKHDEV SHARMA PANEL FOR NOIDA FONRWA ELECTION

नोएडा के द्विवर्षिय फोनरवा चुनाव जुलाई में दिनांक 30.7.17 को होना सुनिश्चित हुआ है !
इस लोकतांत्रिक प्रक्रिया में शामिल होने के लिए आज नामांकन पत्र दाखिल किए गये हैं!
श्री सुखदेव शर्मा पैनल के प्रत्याशीयों ने आज दिनांक 21-7-17 को 21 पदों पर नामांकन किया है !
नामांकन प्रत्याशी के नाम व पद निम्नवत है :

एक ही बारिश में खुली नोएडा प्राधिकरण की पो ल, जलभराव क कारण घंटों जाम में फंसे लोग

नोएडा प्राधिकरण आखिर नोएडा की जनता को जाम से कब निजात दिलाएंगे ? सवाल काफी सालों से नोएडा प्राधिकरण पर लगता आया है | आपको बता दे की यूपी के हाईटेक शहर नोएडा सिर्फ इमारतों में तब्दील होता चला गया , लेकिन प्राधिकरण ने यह ध्यान नहीं दिया की एक ऐसी समस्या आएगी जिससे नोएडा में रहने वाले लोग उस परेशानी का हर रोज सामना करना पड़ेगा | जिसका नाम है जाम | ये ऐसी समस्या बनती जा रही है जिसका प्राधिकरण ने अब तक कोई भी निस्तारण नहीं निकाल पाया | वही दूसरी तरफ अभी तक प्राधिकरण के अधिकारियों ने कितनी बार भी बोर्ड बैठक में अहम निर्णय लिए हो लेकिन जाम को लेकर कोई निर्णय नहीं ले पाया |

बारिश ने पूरी कर दी रही सही कसर

साथ ही कल हुई तेज बारिश ने प्राधिकरण की पोल ही खोलकर रख दी | जी हाँ तेज बारिश होने से सड़को पर लम्बा जाम लग गया | वही नोएडा – ग्रेटर नोएडा की जनता को 4 किलोमीटर का सफर 1 घण्टे में तय करना पड़ा | अगर ट्रैफिक पुलिस की बात करे तो आधे से ज्यादा पुलिस कर्मी कावड़ियों में लगे हुए थे | वही दूसरी तरफ कल तेज बारिश की वजह से जो रास्ते में वाहन ख़राब हो गए थे उसको हटाने के लिए प्राधिकरण की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं की गयी | इन सब समस्याओं ने मिलकर कर नोएडा -ग्रेटर नोएडा निवासियों को खूब परेशान किया। अब देखना महत्वपूर्ण होगा की आगे आने वाले बरसात के दिनों में भी क्या प्राधिकरण कुछ उचित व्यवस्था करता है या लोगों को फिर ऐसे ही परेशान होना पड़ेगा।

ट्रक ड्राइवर ने बाइक सवार के साथ की बदसलूक ी, सरेआम की गाली-गलौच

नोएडा के थाना सेक्टर-20 इलाक़े के हरौला में एक ट्रक ड्राइवर द्वारा एक बाइक सवार के साथ बदसलूकी का मामला सामने आया है। छोटी सी बात को लेकर ट्रक ड्राइवर ने न सिर्फ बाइक सवार के साथ बदसलूकी की, बल्कि सरेआम उसके गाली-गलौच भी किया।

घटना के बाबत बताया जा रहा है कि आइशर कैंटर गाड़ी, जिसका गाड़ी नंबर BL1LK0143 है, रोड से होकर गुज़र थी, कि तभी एक बाइक सवार गाडी को ओवरटेक करते हुए आगे निकल गया। बस इतनी सी ही बात पर ट्रक चालाक भड़क गया और बाइक सवार को रोक कर उसके साथ बदसलूकी और गाली-गलौच शुरू कर दी। अभी इस घटना को लेकर पुलिस शिकायत की जानकारी नहीं है।

नोएडा से लापता इंजीनियर को अब खोजेगी सीबी आई

एक मासूम पिता जिसने अपने बेटे को ढूढ़ने के लिए हर प्रयास किया लेकिन हमेशा एक नाकामयाबी हासिल हुई | जिसको लेकर उस पिता ने न्यायालय का सहारा लिया जिसके बाद लापता बेटे के पिता को उम्मीद की एक किरण नज़र आ रही है | आपको बता दे की नोएडा के सेक्टर 15 से 17 अक्तूबर 2013 को संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हुए साफ्टवेयर इंजीनियर अभिनव मित्तल को सीबीआई खोजेगी। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने केस की जांच नोएडा पुलिस की जगह सीबीआई को सौंप दी है। अभिनव के परिजनों ने उसकी हत्या कर शव ठिकाने लगाने की आशंका जताई है।

क्या है पूरा मामला

17 अक्तूबर 2013 की रात 8:15 बजे के बाद अभिनव घर से लापता हो गया उसके बाद से आज तक उसका कोई सुराग नहीं है। उसका पैन ड्राइव और मोबाइल घर पर ही रखा हुआ था। परिजनों ने उसकी पत्नी पर भी उसके लापता होने में शक जताया था। 18 अक्तूबर को सेक्टर-20 थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज हुई। चार साल की जांच के बाद नोएडा पुलिस अभिनव का कुछ पता नहीं लगा पाई है।

घरवालों को था अभिनव की पत्नी पर शक

अभिनव के परिजनों का आरोप है कि अभिनव और उसकी पत्नी ज्योति में मनमुटाव था। ज्योति वर्ष 2009 से 2011 तक राष्ट्रमंडल खेल आयोजन समिति में डोपिंग मैनेजर थी। उसके वरिष्ठ मुनीश चंद्र डोपिंग विशेषज्ञ थे। दोनों में दोस्ती थी। गुमशुदगी वाले दिन जहां आखिरी बार अभिनव को उसी तल पर देखा गया जहां उसकी पत्नी मौजूद थी, लेकिन उसे नहीं पता उसका पति कब घर से चला गया। गुमशुदगी के अगले दिन ज्योति मुनीश चंद्र के साथ पति को तलाशने घर से निकलने के पांच घंटे बाद वापस आई थी। परिजनों का आरोप है कि लापता होने में पत्नी का हाथ हो सकता है | ज्योति और मुनीश एकसाथ बैंकाक भी घूमने गए थे। उन्हें शक है कि उनके पुत्र के लापता होने में ज्योति का हाथ है। अभिनव के लापता होने के एक माह बाद ज्योति मायके चली गई थी।