Daily Archive: October 17, 2017

Gang Canal water to be released on Diwali Night for to reach Noida by 22!

Saurabh Kumar

Gang canal situated at Irrigation department Muradnagar will release water on Diwali night.
From the canal water will be released on Diwali night and this water will reach Noida on 22 October after getting treated from Pratap Vihar water treatment plant.
Executive engineer of irrigation department told press that now work of maintenance is on-going in canal and it will get over on 19th October after that water will be released in canal. Senior project engineer Ramakant Srivastava who is associated with Gang Canal project said that for now as of alternative option to meet the requirements of Noida 325 tube wells are supplying 250 MLD water.

नोएडा के लिटिल एंजल स्कूल के बच्चो ने मनाय ा धूमधाम से दीवाली महोत्सव

नोएडा के सेक्टर 22 में स्थित में दीपावली के अवसर पर अवकाश होने के चलते स्कूल परिसर में दो दिन पहले ही दीपोत्सव मनाया गया। इस दौरान अध्यापिकाओं द्वारा बच्चों को त्योहार की महत्ता बताई गई। बच्चों ने मंगलवार को हंसी-खुशी से दीपावली मनाई। बच्चों ने मनोहारी रंगोली बनाई, देवी-देवताओं का स्वरूप धारण किया और स्कूल को दियों से सजाया। साथ ही प्रधानाचार्या दीक्षा जोशी ने बच्चों को दीपावली के महत्व के बारे में बताया। इसी के साथ बच्चों को प्रदूषण रहित दीपावली मनाने का संदेश दिया और कहा कि घरों में चाइनीज लड़ियों की बजाय मिट्टी के दीपक का इस्तेमाल करें। वातावरण दूषित न हो इसके लिए पटाखे नहीं फोडेंगे।

नोएडा के लॉयन्स क्लब संस्था ने सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ मनाया दीपावली महोत्सव

लॉयन्स क्लब नोएडा ने दीपावली महोत्सव ईशान म्यूजिक कॉलेज के प्रेक्षाग्रह में धूम धाम से मनाया गया। यह कार्यक्रम पूर्ण रुप से पारिवारिक था जिसमे लायन सदस्यो सहित उनकी परिवार जनों ने भी भाग लिया। सर्वप्रथम कार्यक्रम की शुरुआत लायन पूनम गुप्ता द्वारा हे राम भजन गा कर की।तद्पश्चात नेहा ने सरस्वती वंदना पर अपना नृत्य प्रस्तुत कर सबको मंत्र मुग्ध कर दिया।
वंदना के पश्चात लायंस क्लब नोएडा के सभी सदस्यों ने सपरिवार लॉयन्स क्लब एक्सप्रेस गार्डेन से लायन मनोज गर्ग व लायन संजीव खन्ना एवँ लायंस क्लब लोटस के लायन पी सी शर्मा एवं लायन ऐ के साहनी सहित आये हुए सभी अतिथियों द्वारा एक एक दीप प्रजवल्लित कर दीपावली की शुभकामनाएं दी।

विधिवत सांस्कृतिक कार्यक्रम का आरम्भ लायन डॉ मोना गुप्ता के सो जा कान्हा ज़रा गानेपर नृत्य करके हुई। इसके पश्चात गानों द्वारा अपनी आबाज़ का जादू लायन पूनम गुप्ता ने मेरा नाम चुन चुन चू,लायन मनोज़ गर्ग ने लगा चुंदरी में दाग, लायन डॉ निमेश ने मुझे छू रही है, लियो शिवानी ने चुरा लिया है, लायन आर एन श्री वास्तव ने तुम किसी और को चाहोगी, प्रससुन मुखर्जी ने है अपना दिल तो आवारा सहित अनेक गाने,कुमकुम मुखर्जी ने अखियों के झरोखों से और आओ हुज़ूर तुमको जैसे मनमुग्ध करदेने वाली अपनी आबाज़ का जादू बिखेरा।

इसी बीच डॉ अमित भार्गव के बेटी कृतिका ने वायलिन पर कुछ अलग अलग गानों की धुन बजा कर सदन को मंत्रमुग्ध कर दिया। नृत्य की श्रेणी में लियो शिवानी ने पंजाबी लोकगीत पर, नेहा ने हरियाणवी लोकगीत पर निधि से रामलीला फ़िल्म से लगांडे संग ढोल बाजे जैसे गानों पर अपना नृत्य प्रस्तुत किया।

Adarsh Dhawan On Dadi Ki Rasoi managed by Anoop Khanna , Noida

आदर्श धवन जी द्वारा दादी की रसोई पर विशेष लेख —-=विश्व खाद्द दिवस पर विशेष —
16 अक्तूबर का दिन विश्व खाद्द दिवस के रूप मे पूरे विश्व मे मनाया जाता है । इसकी शुरुवात 1979 में हुई जब यह महसूस किया गया कि विश्व में खाद्द समस्या विकराल रूप लेती जा रही है । खाद्द समस्या कभी भी विश्व में इतनी विकराल रूप में नहीं रही जितनी आज है और आने वाले समय में यदि कुछ उपचार नहीं समझे गए । अलग अलग वर्षों मे विभिन्न मुद्दों को ले कर वर्ष मनाया जाता है परन्तु भारत और सम्पूर्ण विश्व की शक्तियाँ क्या कुछ समाधान वाही कर्म करती हैं यह एक सोच का विषय है ?
इसी से जुड़ा है कुपोषण का मुद्दा और भुखमरी का मुद्दा । इस देश में सरकारी आंकड़ों के अनुसार लगभग 44% बच्चे कुपोषण के कारण कम वज़न के हैं और वहीं पर 32% अपने अधिक वज़न के या भारी है । बीमारी का शिकार दोनों हो सकते हैं । सीधा सा अर्थ है कि निर्धन परिवारों को पौष्टिक भोजन कम मिल रहा । यह भी विसंगति है कि देश में लगभग 84000 करोड़ रुपये का खर्चा सरकारी MID DAY MEAL के अंतर्गत विभिन्न राज्य और केंद्र सरकार का होता है । फिर भी बच्चे कमजोर हैं । यह अलग बात है कि इस पैसे से रसोई बनाना और बर्तन खरीदने के अतिरिक्त कर्मचारियों की तंख्वाह भी दी जाती है । क्या इस मात्र में दिये धन का सदुपयोग हो रहा है ?
इसी प्रकार एक और संस्था का Data मैंने खोजा तो पता चला कि कुपोषण में काम करने वाली संस्था (नाम नहीं दे रहा हूँ, जो चाहें मुझसे व्यक्तिगत रूप से ले लें website se निकाल सकते हैं) जिसका कुल कारोबार मात्र देशी और विदेशी सरकार के अनुदान और मात्र दान पर चलता है का कारोबार 171 करोड़ का है । उसमें से खर्चे को देखा तो लगभग 40 करोड़ की salary दी जाती है ।
हैरानी की बात है लाखों करोड़ों के खर्चे के बाद भी भारत में भुखमरी कि स्थिति ज्यों की त्यों बनी है । क्योंकि जो भी पैसा आता है वह भूखों के अतिरिक्त सब अधिक कामों में लग जाता है। जबकि यदि यह पैदा सही ढंग से खर्च हो तो यह स्थिति बदल सकती है
आइये आपको इसका छोटा सा उदाहरण प्रस्तुत है, नोएडा सेक्टर 29 स्थित समाज सेवइयों से चलने वाली दादी की रसोई आज के जमाने की महंगाई में भी लोगों को 5 रुपये में भोजन दे पाती है । रोज़ 12 से 2 बजे के बीच के समय में सभी आते हैं और कतार लगा कर भोजन करते हैं । 2 बजे के बाद और 12 बजे से पहले आप उस स्थान पर कोई चहल पहल या गतिविधी को नहीं पाएंगे । 2 बजे भोजन के साथ साथ सभी सफाई भी हो जाती है तो स्वछता अभियान भी चलता रहता है । रोज़ लगभग 300 से 500 लोगों का भोजन वहाँ हो जाता है । यह कैसे होता है उसके लिए जमीनी हकीकत को समझने की ज़रूरत है । इसका उद्देश्य था मात्र भोजन करवाना न कि इसके सहारे किसी प्रकार के संस्थान को चलाना । इसीलिए न तो विशेष जगह बनाई गई न विशेष रूप से जगह खरीदी गई । मतलब सही शब्दों में overhead expenses नहीं रखे गए । बस लोगों में आज भी अच्छे कामों में सहयोग की ब हावना है परन्तु सही में सामाजिक कर्म होते नहीं नज़र आते है ।
इस सामाजिक काम में लोगों नें बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया । आप समझें सब्जी वाला अपनी लागत मूल्य पर सब्जी देता है, चावल मसले इत्यादि भी उचित मूल्य पर लोग देते हैं । एक तरह से सबने अपने ढंग ढंग से सहयोग किया । हमारे सबके प्यारे अनूप खन्ना जी और उनकी टीम इसका संचालन करते हैं । पूति निष्ठा के साथ आपके पूरे वर्ष एक होली की छुट्टी के अतिरिक्त 364 दिनों तक यह सेवा करती मिलेगी ।
यदि एक छोटी सी संस्था नोएडा जैसे शहर में बिना सरकारी सहायता या अनुदान के यह कर सकती है तो इतने दावे करने वाली सरकारों को इस सबसे सबक लेना चाहिए । बड़ी बड़ी स्वयं सेवी संस्थाएं जिनको सरकार 80G के प्रावधान से नवाजती है भारतीयों से दान के नाम पर करोड़ों रुपये ले कर इस देश को कितना कुपोषण से मिक्त कर रही है इसके आकलन की आज बहुत आवश्यकता है ।

Engineer Shot in Noida for opposing bike theft!

In sector 37 Noida a software engineer was shot in front of his house while opposing goons who were trying to steal his bike. After hearing the gunshot family members and neighbors rushed to him and took him to Kailash Hospital, where he was admitted in ICU.

On Saturday night when thief’s were trying to steal his bike, he caught them red handed and foiled the bid. However they first tried to fight with him and get away from the site and then shot him in his leg and ran away.

As per SECTOR- 39 SHO Avinish Dixit a FIR has been registered by Sushma, Victim’s sister. Such fearless and brazen attempt on one’s life raises strong questions over law and order situation of the city.