Daily Archive: December 5, 2017

6 माह के भीतर चरित्र प्रमाण पत्र जारी न होन े पर जिलाधिकारी ने एडीएम को पूरे प्रकरण की सौ ंपी जांच

जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर ब्रजेश नारायण सिंह के सम्मुख यशपाल सिंह चिकारा पुत्र रणवीर सिंह चिकारा निवासी सेक्टर 135 नोएडा तहसील दादरी जिला गौतम बुद्ध नगर का चरित्र प्रमाण पत्र प्रस्तुत किया गया। इसमें जिलाधिकारी ने पाया की प्रस्तुत किया गया चरित्र प्रमाण पत्र विगत 6 माह से लंबित है और अभी तक यह जारी नहीं किया गया है।

डीएम ने इस प्रकरण को बहुत ही गंभीरता से लिया और अपर जिलाधिकारी प्रशासन कुमार विनीत को इस प्रकरण की जांच करने के निर्देश दिए हैं । उन्होंने कहा हैं कि जांच करते हुए यह पता लगाया जाए कि संबंधित चरित्र प्रमाण पत्र विगत 6 माह से किस स्तर पर लंबित है और संबंधित व्यक्ति को वर्तमान तक जारी करने में इतनी देर क्यों की गई है। उन्होंने संबंधित दोषी अधिकारी एवं कर्मचारी के विरूद्ध जांच के उपरांत कार्रवाई प्रस्तुत करने के लिए निर्देश दिए हैं।

दिल्ली एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से शहरवासि यों का बुरा हाल , मरीजों की तादाद बड़ी

दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण की मार देखने को मिल रही है | वही गौतमबुद्ध नगर के शहरवासियों का प्रदूषण से बुरा हाल है। एक माह में 14 बार से भी ज्यादा पीएम-10 का स्तर 500 के खतरनाक स्तर से ऊपर हो चुका है। वायुमंडल में आक्सीजन की भारी कमी महसूस की जा रही है। जिसको लेकर सरकारी व निजी अस्पतालों में मरीजों की तादाद बढ़ती जा रही है। विभिन्न अस्पतालों से मिली जानकारी के अनुसार जितने मरीज ओपीडी में पहुंच रहे हैं, उनमें कम से कम 35 से 40 फीसद मरीज प्रदूषण की वजह से ही प्रभावित हैं। यानि साफ कहा जा सकता है कि शहर का हर तीसरा व्यक्ति प्रदूषण का शिकार है।

वही इस मामले में स्वास्थ विभाग के अधिकारीयों का कहना है की यदि आगामी दिनों में भी प्रदूषण का यही स्तर बरकरार रहा तो शहर का हर दूसरा व्यक्ति प्रदूषण का शिकार होगा। इसका मतलब है कि आधा शहर प्रदूषण की गिरफ्त में होगा। यह स्थिति वाकई में भयावह है। वायुमंडल में विभिन्न तरह के प्रदूषण व धूल कणों के बढ़ने से आक्सीजन लगातार कम हो रही है। दूसरी तरह कार्बन, सल्फर, मर्करी, लेड, कार्बन मोनो आक्साइड जैसी गैसें व तत्वों की मात्रा बढ़ती जा रही है। यह तत्व सांसों के जरिये फेफड़ों में प्रवेश कर रक्त में आक्सीजन की कमी पैदा कर रहे हैं। इससे लोग खांसी, सांस फूलने, दमा, अस्थमा, हृदय रोग, ब्रोंकाइटिस, जुकाम, नजला, सर्दी, नाक बहना, सिरदर्द, चक्कर, उल्टी, न्यूरो समस्याएं, तनाव, अनिद्रा, बेचैनी इत्यादि के तेजी से शिकार हो रहे हैं। इनमें बच्चे व बुजुर्गो की संख्या अधिक है। इसके अलावा युवा भी प्रभावित होने लगे हैं।