Daily Archive: December 30, 2017

2018 में – हमारा नॉएडा कैसा हो ?

हम कैसे देखना चाहते है ,अपने शहर को 2018 ख़त्म होने से पहले।
1. शुद्ध हवा का संचार हो।
2. यातायात सुचारू रूप से चले।
3. पानी को RO से न पी कर , सीधे नलके से पी सके।
4. कुंडा कचरा कही दिखाई न दे, एसा व्यतीत हो कि हम अच्छे शहर मे रहते है।
5. सरकार सबको शिक्षा दे कि प्लास्टिक की थैली का उपयोग बंद हो। कुंडा जहाँ पैदा हुआ है वही पर उसका निसतारण हो जाये।
6. ई वेस्ट collection Centre हो , जगह जगह।
7. रिक्शा , आटो की संख्या निर्धारित हो।
8. यातायात के नियमों का पालन हो।
9. अपराध कम हो, तथा महिलाओं ओर बड़ों का सम्मान हो।
मेरा एसा मानना है कि जब योगीजी ओर मोदी जी प्रदेश मे ओर देश मे साथ साथ है तो हमारा नौयडा जो दिल्ली के पास है एक बहुत ख़ूबसूरत शहर बन सकता है। कोशिश शुरू करे।
धन्यवाद , अनीता सिंह

नॉएडा : आपके गली मोहल्ले की साफ़ सफाई पर, पैन ी नजर रखेगा नया सॉफ्टवेयर

नोएडा, स्वछता अभियान में एक नई पहल करते हुए नॉएडा अथॉरिटी एक नया सॉफ्टवेयर लाने जा रही है। जिससे गली मोहल्ले के सफाई करने वाले कर्मचारियों का सफाई के नाम पर झूठ नहीं चलेगा। आपकी की गली या महोल्ले में सफाई हुई है या नहीं हुई है। और कितने दिनों से कर्मचारी सफाई पर आये है या नहीं आये है इन सब की जानकारी सॉफ्टवेयर के जरिये नॉएडा अथॉरिटी में बैठे अधकारी को जानकारी मिल जायेगी। इसके लिए अथॉरिटी ने एक कंपनी से प्रजेंटेशन मांगा था जिसे फाइनल कर दिया गया है। अथॉरिटी का कहना है कि बहुत जल्द इसे शुरू करने की तैयारी है। दरअसल, शहर की सफाई का मुद्दा बहुत बड़ा है। सफाईकर्मियों पर ऐसे आरोप हैं कि वे अपने एरिया में कभी-कभार ही झाड़ू लगाते हैं। वहीं रेजिडेंट्स और आरडब्ल्यूए भी सफाई नहीं होने की अथॉरिटी में लगातार शिकायत करते रहते हैं। अथॉरिटी के पास इतना स्टाफ भी नहीं है कि वह अलग-अलग इलाकों में लगातार जाकर निरीक्षण कर सके कि किस गली में रोज सफाई हो रही है या नहीं। इस सॉफ्टवेटर में शहर की हर गली का रेकॉर्ड होगा। संबंधित सुपरवाइजर को इन गलियों में सफाई कराने की जिम्मेदारी संभालनी होगी।संबंधित सुपरवाइजर की यह जिम्मेदारी होगी कि हरेक गली का हर रोज का फोटो मोबाइल से खींचकर संबंधित सॉफ्टवेयर पर भेजेगा। यह सॉफ्टवेयर नोएडा अथॉरिटी के संबंधित अधिकारियों और संबंधित सुपरवाइजर के मोबाइल पर भी अपलोड किया जा सकेगा।

राजेश सिंह, ओएसडी, नोएडा अथॉरिटी ने बताया कि नॉएडा अथॉरिटी के लिए सफाई का बहुत बड़ा मुद्दा था. और सफाई को लेकर नॉएडावासियो की सबसे जाएदा शिकायते मिलती थी साथ ही सफाई कर्मचारियों भी सफाई के नाम पर लापरवाही करते थे। इसलिए हमने ये सॉफ्टवेयर लाने की सोची है। तक़रीबन ये कंपनी से फाइनल हो गया है। इस सॉफ्टवेयर के तहत अथॉरिटी कभी भी किसी भी गली की जानकारी देख सकेगी कि उस दिन वहां सफाई हुई थी या नहीं। अगर कोई रेजिडेंट सफाई नहीं होने की शिकायत करता है तो तुरंत चेक किया जा सकेगा और संबंधित स्टाफ पर कार्रवाई की जा सकेगी। इससे गली पर सीधी निगरानी रखी जा सकेगी।

नॉएडा : उत्तर प्रदेश दिवस पर नॉएडावासियो क ो मिलेंगे 6 तोहफे

नोएडा: नॉएडावासियो के नए साल के जनवरी महिंने में 6 यादगार तोहफे मिलने जा रहे है। उत्तरप्रदेश दिवस 24 जनवरी को मनाया जा रहा है साथ ही यह दिन नॉएडा शहर के लोगों के लिए यादगार बनने वाला है। इस दिन नोएडा अथॉरिटी की ओर से शहर में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम के दौरान कौन से 6 तोहफे नॉएडा शहर को मिलने वाले हैं, यह भी तय हो चुका है। इन तोहफों के बारे में नोएडा अथॉरिटी एक-दो दिन में अधिकारिक तौर पर घोषणा करने वाली है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इनमें सेक्टर-94 और सेक्टर-61 के अंडरपास के अलावा सेक्टर-18 की मल्टीलेवल पार्किंग का लोकार्पण किया जाएगा। लोकार्पण के बाद इन्हें शुरू कर दिया जाएगा। सेक्टर-94 का अंडरपास जमीन अधिग्रहण के विवाद की वजह से अपनी निर्धारित समयसीमा से काफी देरी से शुरू होने जा रहा है। 2014 में यहां दोबारा काम शुरू हुआ था। सेक्टर-61 का अंडरपास हाईटेंशन लाइन के विवाद के चलते देरी से शुरू हो रहा है। वहीं 7 बार डेडलाइन तय होने के बाद सेक्टर-18 की मल्टीलेवल पार्किंग आखिरकार इस बार शुरू होने जा रही है। ये तीनों वे प्रॉजेक्ट हैं जिनका शहर के लोगों को लंबे समय से इंतजार है। 3 नए प्रॉजेक्ट में सेक्टर-96 से लेकर सेक्टर-126 तक नया अंडरपास बनाने के लिए 24 जनवरी को शिलान्यास होगा। इसके अलावा सेक्टर-155 और सेक्टर-156 को नए इंडस्ट्रियल सेक्टर के रूप में लॉन्च किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में मुख्य अथिति कौन रहेंगे यह अभी तय नहीं हो पाया है।

नॉएडा : नौकरी के नाम पर 30 युवाओ से की ठगी

नॉएडा : नौकरी के नाम पर लोगो को ठगने का मामला सामने आया है।और बार ठगो ने बिहार के 10 युवाओ को अपने जाल में फसाया है। साथ ही पुलिस ने भी पीड़ितों की कोई सहयता नहीं की , फेज-3 पुलिस ने बिहार का मामला होने का बात कह कर शिकायत दर्ज करने से मना कर दिया। परेशान युवकों ने बताया उनके पास घर जाने के भी पैसे नहीं है। पीड़ितों युवकों ने बताया कि नालंदा में एक निजी आईटीआई कॉलेज के संचालक ने बिहार के अलग-अलग जिलों में कैंप लगाकर बड़ी संख्या में युवाओं को नौकरी दिलाने का झांसा दिया था। करीब 200 युवकों से नौकरी के लिए फार्म भरवाए गए थे। एक माह पहले संचालक ने सभी युवकों से 10-10 हजार रुपये जमा करने के लिए कहा। इनमें करीब 30 युवकों ने पैसे जमा कर दिए। संचालक ने 25 दिसंबर को इन युवकों को नौकरी दिलाने के लिए नोएडा के सेक्टर-71 में बुलाया। सभी युवक संचालक की बताई जगह पर पहुंचे तो वह नहीं मिला। युवकों के फोन करने पर संचालक ने दो दिन बाद नौकरी दिलाने के लिए कहा। पीड़ित युवक होटल में रुक गए। गुरुवार को संचालक ने अपना फोन भी बंद कर लिया। उसे फोन नहीं लगा तो युवकों को अपने साथ ठगी का अहसास हुआ। पीड़ित राहुल, देवेंद्र कुमार, पप्पू कुमार, कमलेश कुमार, चंदन कुमार ने बताया कि उनके पास अब घर जाने के लिए लिए भी पैसे नहीं है। एसएचओ फेज-3 जितेंद्र कुमार ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है। मामले की जांच के बाद ही वह कुछ कह पाएंगे

Noida Juvenile observation home caretaker suspended after reports of gross negligence !

Ashish Kedia

(30/12/2017) Noida
UP Government has suspended care taker of Noida juvenile observation home after a TOI report(published January 11) highlighted the gross negligence in the functioning of the correction facility.

The report had brought forward how juveniles were being mistreated in the correction facility and how a nexus between different people was indulging in financial and mental torture of inmates living in the facility.

more details awaited!