Daily Archive: February 12, 2019

नोएडा में किया गया थैलेसीमिया पर सेमिनार क ा आयोजन , लोगों को किया जागरूक

आरएचएएम (रोटरी हेल्थ अवेयरनेस मिशन) द्वारा आज नोएडा सेक्टर-62 स्थित पिनाकल टावर के सातवें फ्लोर पर थैलेसीमिया पर सेमिनार का आयोजन किया गया। इस दौरान थैलेसीमिया के बारे में लोगों को जागरूक किया गया। मुख्य अतिथि रोटरी डिस्ट्रिक गवर्नर 2020-21 रो.अशोक अग्रवाल, आरएचएएम के चेयर डा.धीरज भार्गव व रोटरी डिस्ट्रिक 3011 की चेयर थैलेसीमिया डाक्टर तेजिंदर सिंह ने सेमिनार का शुभारंभ किया। डा.धीरज भार्गव ने बताया कि बुधवार को यहीं पर ब्लड डोनेशन कैंप का भी आयोजन किया जाएगा। इस दौरान जो भी थैलेसीमिया का टेस्ट कराएगा उसका टेस्ट निशुल्क किया जाएगा। जबकि बाजार में इस टेस्ट की कीमत एक हजार से 1500 के बीच है।

सेमिनार को संबोधित करते हुए डिस्ट्रिक 3011 चेयर थैलेसीमिया डा.तेजिंदर सिंह ने बताया कि थैलेसीमिया एक अनुवांशिक रोग है। इस रोग में लाल रक्त कण नहीं बन पाते हैं और जो बन पाते है वो कुछ समय तक ही रहते है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को बार-बार खून चढ़ाना पड़ता है। ये रोग अनुवांशिक होने के कारण पीढ़ी दर पीढ़ी चलता रहता है। यह रोग काफी कष्टदायक होता है। थैलेसीमिया के रोगियों की संख्या प्रतिवर्ष बढ़ती जा रही है। वर्तमान में प्रतिवर्ष 10 हजार थैलेसीमिया के मरीज बढ़ रहे है। दस वर्ष पूर्व यह संख्या 2 हजार प्रतिवर्ष थी। थैलेसीमिया दो तरह का होता है एक माइनर और दूसरा मेजर। दुनिया की कुल आबादी में 20 फीसदी लोग माइनर थैलेसीमिया से ग्रसित है। लेकिन जांच के अभाव में उन्हें इस संबंध में जानकारी नहीं मिल पाती है। फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन भी थैलेसीमिया माइनर है। उन्होंने बताया कि सामान्य रूप से शरीर में लाल रक्त कणों की उम्र करीब 120 दिनों की होती है। परंतु थैलेसीमिया के कारण इनकी उम्र सिमटकर मात्र 20 दिनों की हो जाती है। हीमोग्लोबीन की मात्रा कम हो जाने से शरीर दुर्बल हो जाता है। सामान्यतः एक स्वस्थ मनुष्य के शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या 45 से 50 लाख प्रति घन मिलीलीटर होती है। लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण लाल अस्थि मज्जा में होता है। इन कोशिकाओं में केंद्रक नहीं होते हैं एवं इनकी जीवन अवधि 120 दिनों तक ही सीमित होती है।

रोटरी हेल्थ अवेयरनेस मिशन के चेयर डा.धीरज भार्गव ने सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा कि बच्चों में रोग के लक्षण जन्म से 4 या 6 महीने में ही नजर आने लगते हैं। बच्चे की त्वचा और नाखूनों में पीलापन आने लगता है। आंखें और जीभ भी पीली पड़ने लगती है। उसके ऊपरी जबड़े में दोष आ जाता है। दांत उगने में काफी कठिनाइयां होने लगती हैं। त्वचा पीली, यकृत और प्लीहा की लंबाई बढ़ने लगती है तथा बच्चे का विकास एकदम रुक जाता है। यदि माता-पिता थैलेसीमिया माइनर हैं, तब बच्चों को इस बीमारी की आशंका अधिक रहती है। अगर माता पिता में किसी एक को यह रोग है तो बच्चे में रोग के मेजर होने की आशंका नहीं रहती। माइनर का शिकार व्यक्ति सामान्य जीवन जीता है और उसे कभी इस बात का आभास तक नहीं होता। निजी पैथोलॉजी से थैलेसीमिया जांच कराने पर एक हजार से 1500 रुपए खर्च करने पड़ते हैं, लेकिन आरएचएएम द्वारा यह जांच निशुल्क की जाएगी। बुधवार को यहां पर सुबह 10 से शाम 5 बजे तक ब्लड डोनेशन कैंप का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान कोई भी आकर थैलेसीमिया का निशुल्क टेस्ट करा सकता है। इस टेस्ट का पूरा खर्च रोटरी हेल्थ अवेयरनेस मिशन वहन करेगा।

रोटरी डिस्ट्रिक गवर्नर 2020-21 रो.अशोक अग्रवाल ने कहा कि जिस प्रकार थैलेसीमिया मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। उसके अनुसार हमें जागरूक होने की जरूरत है। जिस प्रकार हम शादी से पूर्व लड़का-लड़की की कुंडली मिलाते है उसी प्रकार हमें शादी से पूर्व थैलेसीमिया का भी टेस्ट कराना चाहिए। जिससे पता चल सके कि कोई इस रोग से तो पीड़ित नहीं है।

इस दौरान असिस्टेंट गवर्नर जोन-11 रो. प्रशांत राज शर्मा, रो.सुरेंद्र शर्मा, डा.रूचि, नवीन, वरूण आदि ने भी सेमिनार को संबोधित किया।

भारतीय जनता पार्टी ने देशभर में ‘मेरापरिव ार- भाजपा परिवार’ अभियान का किया आयोजन

आज से भारतीय जनता पार्टी ने देशभर में ‘मेरापरिवार- भाजपा परिवार’ अभियान शुरू किया है। दस दिनों तक चलने वाले इस अभियान के तहत भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारी बूथ पदाधिकारियों के घर जाकर पार्टी का ध्वज लगाएंगे। इसकी जानकारी भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री नवाब सिंह नागर ने दी।

सेक्टर 33 स्थित अपने आवास पर आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष नागर ने बताया कि "10 दिनों तक चलने वाले इस अभियान के तहत भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारी बूथ पदाधिकारियों के घर जाकर पार्टी का ध्वज लगाने के साथ साथ आगामी राजनीतिक कार्यक्रमों पर भी चर्चा करेंगे। लोकसभा चुनावों को लेकर भी बूथ पदाधिकारियों के साथ चर्चा कर नई रणनीति बनाई जाएगी। श्री नागर ने बताया कि इसके अलावा केंद्र व प्रदेश सरकार की विशेषताओं तथा उनकी उपलब्धियों पर भी चर्चा की जाएगी।

नागर ने बताया कि केंद्र व प्रदेश सरकार ने जनहित में अनेकों योजना चलाई हैं तथा कई जनकल्याणकारी फैसले भी लिए हैं। केंद्र सरकार का सामान्य समाज के लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण, बजट में सीमांत किसानों को प्रतिवर्ष 6 हजार की धनराशि दिए जाने, आयकर सीमा बढ़ाए जाने सहित कई निर्णय सराहनीय है। मेरा परिवार भाजपा परिवार अभियान के तहत इन निर्णय व योजनाओं को भी बूथ पदाधिकारियों व आम जनता तक पहुंचाने का कार्य किया जाएगा।

सातवें ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ़ जर्नलिज्म का न ोएडा फिल्म सिटी में हुआ शुभारंभ।

जैसे जैसे समय बीतता है वैसे वैसे हर चीज़ में बदलाव आते है अगर हम पत्रकारिता की बात करे तो उसमे बहुत बदलाव आया, पहले हमे किसी खबर के लिए सिर्फ रेडियो, टीवी या समाचारपत्र पर ही आश्रित रहना पड़ता था लेकिन आज आप विश्व भर की खबरे अपने मोबाइल पर उसी समय देख सकते है, इसीलिए मैं यह कहता हूँ की आज के लोग राजा महाराजा से भी ऊपर है क्योकि वो कबूतर के जरिये अपना पैगाम भेजते थे और हम आज एक सेकंड में हज़ारो लोगो को अपना सन्देश भेज सकते है, यह कहना था सातवें ग्लोबल पत्रकारिता समारोह के उदघाट्न समारोह में मारवाह स्टूडियो के निदेशक संदीप मारवाह का।

इस अवसर पर बोस्निया के राजदूत मोहम्मद सेनजिक, अज़रबैजान के राजदूत अशरफ शिखालियेव, डिप्टी हेड ऑफ़ द मिशन, एम्बेसी ऑफ़ थे चेक रिपब्लिक रोमन मसारिक, जर्नलिस्ट के.जी सुरेश, टीवी रिपोर्टर नीरज ठाकुर और टीवी एंकर साक्षी जोशी उपस्थित हुए।

मोहम्मद सेनजिक ने कहा की आज के समय और पहले की पत्रकारिता में बहुत अंतर आ गया है, पहले न्यूज़ को उसी रूप में पेश किया जाता था जैसे वह होती थी परन्तु आज किसी भी छोटी बड़ी न्यूज़ को एंटरटेनिंग बनाना बहुत ज़रूरी है जिससे लोग उस न्यूज़ को देख सके और समझ सके।

अशरफ शिखालियेव पत्रकार का काम पूरे देश को ही नहीं विश्व को सच्चाई से अवगत कराना होता है जो पत्रकार दिखाता है वही जनता समझती और जानती है, आज हर छोटी सी खबर देश में ही नहीं विश्व पर भी असर छोड़ती है। हमारे देश के लोग भारत को उसी नज़रिये से देखेंगे जैसा एक पत्रकार दिखायेगा, इसलिए पत्रकार को हमेशा अपने काम के प्रति ईमानदार होना आज के समय में बहुत ज़रूरी है।

रोमन मसारिक ने कहा की आज ब्रेकिंग न्यूज़ को इतना बढ़ा चढ़ा कर दिखाया जाता है की फैक्ट्स ही दब जाते है और हम सच्चाई से अवगत नहीं हो पाते, पत्रकारिता का अर्थ ही है सच्चाई को सामने लाना। के.जी सुरेश ने कहा की मीडिया का काम है जनता को सत्य दिखाना और मीडिया का एक ही पक्ष है वो है जनपक्ष।

साक्षी जोशी ने कहा की आज के समय में पत्रकार के सामने जो सबसे बड़ी मुश्किल है वो है फेक न्यूज़, आज के समय में फेक न्यूज़ के कारण जनता ने पत्रकारिता पर विश्वास करना छोड़ दिया है हमे उसी भरोसे को वापिस लाना है।

नीरज ठाकुर ने कहा की इस तरह का आयोजन बहुत ज़रूरी है, इसमें युवा पीढ़ी को भी अपनी बात कहने का अवसर देना चाहिए ताकि हम समझ सके की वो किस हद तक जर्नलिस्म को समझते है और आगे वो किस तरह इसे ले जाएंगे।

बोरे में मिली एक युवक की लाश , नोएडा पुलिस ज ाँच में जुटी

नोएडा के फेस 3 थाना इलाके में उस समय हड़कंप मच गया , जब एक 15 वर्षीय एक युवक की लाश बोरे में मिली | वही इस मामले में लोगों ने पुलिस को सुचना दी | मौके पर पहुँची पुलिस ने नाले से बोरा निकाला , जिसमे एक युवक की लाश थी | वही पुलिस ने शव को अपने कब्ज़े में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है |

दरअसल नोएडा के फेस 3 थाना इलाके के सेक्टर 63 जी ब्लॉक के नाले की सफाई करवाई जा रही थी , तभी बंद पड़ा बोरा कर्मचारियों को नाले में दिखाई दिया , तभी सफाई कर्मचारियों ने इस मामले की सुचना पुलिस को दी |

वही इस मामले में प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया की बोरे के अंदर एक युवक की लाश मिली है , जिसको देखकर लगता है की देर रात इस युवक की हत्या करके शव को ठिकाने लगाने के लिए नाले में फेक दिया है |

वही दूसरी तरफ पुलिस के अधिकारीयों का कहना है की थाना फ़ेस 3 इलाके में एक बोरे के अंदर एक युवक की लाश मिली है , जिसको पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है | साथ ही उनका कहना है की शव की अभी तक पहचान नहीं हो पाई , जिसको लेकर सभी थानों में सूचित कर दिया गया , जिससे शव की पहचान हो सके |

नोएडा प्राधिकरण की आवासीय भूखंड योजना के लिए आवेदन करने का अंतिम दिन आज

नोएडा प्राधिकरण की आवासीय भूखंड योजना में आज आवेदन करने का अंतिम दिन है। केवल ऑनलाइन आवेदन ही स्वीकार किया जा रहा है और ऑनलाइन बोली के माध्यम से ही इन प्लॉटों की बिक्री हो रही है। इसमें 335 प्लॉटों के लिए लोगों को आवेदन करना है। हालांकि प्राधिकरण के रिकॉर्ड के अनुसार अब तक मात्र 56 लोगों के आवेदन आए हैं।