Noida Latest News

नोटबंदी का आज 21वा दिन हो चुके है लेकिन एटीए म के बहार सेकड़ो की कतार में खड़े है लोग

500 और 1000 के नोट बंद होने के बाद अभी तक आपने बैंक के बाहर खड़े तो देखे होंगे लेकिन अब एटीएम से पैसे निकालने के लिए जनता सुबह 5 बजे से एटीएम के बाहर लाइन लगा खड़ी हुई है। … आप को बता दे की नोटबंदी का आज 21वा दिन है लेकिन नॉएडा के सेक्टर अलग अलग में आलम ये की सैकड़ो की तादात में एटीएम मशीन के बहार लोग लाइन में सुबह 5 बजे से खड़े हुए है और हर कोई इस आस में है की शायद उसका नंबर भी आएगा और वो एटीएम से पैसे निकाल कर कुछ काम कर सके। .. वही नॉएडा के करीब आधा दर्जन से जायद एटीएम के ऐसे थे जो की काम नही कर रहे थे या फिर उनमे पैसा नही है।

नोटबंदी का आज 21वा दिन हो चुके है लेकिन एट ीएम के बहार सेकड़ो की कतार में खड़े है लोग

नोटबंदी का आज 21वा दिन हो चुके है लेकिन एटीएम के बहार सेकड़ो की कतार में खड़े है लोग

500 और 1000 के नोट बंद होने के बाद अभी तक आपने बैंक के बाहर खड़े तो देखे होंगे लेकिन अब एटीएम से पैसे निकालने के लिए जनता सुबह 5 बजे से एटीएम के बाहर लाइन लगा खड़ी हुई है। … आप को बता दे की नोटबंदी का आज 21वा दिन है लेकिन नॉएडा के सेक्टर अलग अलग में आलम ये की सैकड़ो की तादात में एटीएम मशीन के बहार लोग लाइन में सुबह 5 बजे से खड़े हुए है और हर कोई इस आस में है की शायद उसका नंबर भी आएगा और वो एटीएम से पैसे निकाल कर कुछ काम कर सके। .. वही नॉएडा के करीब आधा दर्जन से जायद एटीएम के ऐसे थे जो की काम नही कर रहे थे या फिर उनमे पैसा नही है।

नोटबंदी का आज 21वा दिन हो चुके है लेकिन एटीए म के बहार सेकड़ो की कतार में खड़े है लोग

500 और 1000 के नोट बंद होने के बाद अभी तक आपने बैंक के बाहर खड़े तो देखे होंगे लेकिन अब एटीएम से पैसे निकालने के लिए जनता सुबह 5 बजे से एटीएम के बाहर लाइन लगा खड़ी हुई है। … आप को बता दे की नोटबंदी का आज 21वा दिन है लेकिन नॉएडा के सेक्टर अलग अलग में आलम ये की सैकड़ो की तादात में एटीएम मशीन के बहार लोग लाइन में सुबह 5 बजे से खड़े हुए है और हर कोई इस आस में है की शायद उसका नंबर भी आएगा और वो एटीएम से पैसे निकाल कर कुछ काम कर सके। .. वही नॉएडा के करीब आधा दर्जन से जायद एटीएम के ऐसे थे जो की काम नही कर रहे थे या फिर उनमे पैसा नही है।

NOIDA RWA SAYS NO TO FREEHOLD

मैं रामवीर शर्मा संस्थापक अध्यक्ष RWA सेक्टर -108 नोएडा; क्षेत्र को फ्रीहोल्ड का पक्षधर नहीं हूँ अर्थात मैं नोएडा को फ्रीहोल्ड करने की मांग का खंडन करता हूँ। फ्रीहोल्ड की मांग का खंडन करने के मेरे निम्न तर्क हैं:-

1. फ्रीहोल्ड होते ही लोग दिल्ली की तर्ज पर, अपने प्लॉट पर बहुमंजिलें बनाना शुरू कर देंगे नतीजन निश्चित क्षेत्र में जनसँख्या का घनत्व बढ़ जायेगा।

2. उपरोक्त की वजह से गाड़ियों की संख्या बढ़ जायेगी जिससे क्षेत्र की हवा में प्रदुषण बढ़ेगा जो हमारे और हमारे बच्चों के लिए दुष्परिणाम दायक साबित होगा।

3. क्षेत्र में घनत्व बढ़ने से सड़के छोटी पड़ जायेंगी फलस्वरूप ट्रैफिक जाम की स्थिति होगी जिससे देश के लोगों का समय ही नहीं, पेट्रोल व डीजल में पैसा भी बर्बाद होगा।

4. क्षेत्र में घनत्व बढ़ने पर सभी सीवरलाइनों की क्षमता कम पड़ेगी लिहाजा सभी को उखाड़कर दोबारा बनाया जायेगा अर्थात एक तरह से सेक्टरों को रिडिजाइन की आवश्यकता होगी जो पैसे की बर्बादी के साथ लोगो के लिए असुविधा का कारण बनेगी।

इसके अलावा और बहुत कारण हैं जिनमें उपरोक्त विशेष हैं।
धन्यवाद।

मोदी सरकार के नोटबंदी फैसले से आम जन जीवन त बाह हो रहा है गंगेश्वर दत्त शर्मा

मोदी सरकार के नोटबंदी फैसले से आम जन जीवन तबाह हो रहा है गंगेश्वर दत्त शर्मा

नोएडा जन जीवन में तबाही ला रहे नोटबंदी के मोदी सरकार के फैसले के खिलाफ माक्र्सवादी कम्नुनिष्ठ पार्टी एवं वामपंथी पार्टियों के देशव्यापी विरोध प्रर्दशन के आहावान के तहत सोमवार 28.11.2016 को सीपीआई (एम) पार्टी नोएडा के कार्यकर्ता ने पार्टी सचिव एवं नोएडा विधान सभा से प्रत्याशी गंगेश्वर दत्त शर्मा के नेतृत्व में बाॅसबल्ली मार्किट सैक्टर-8,9,10 तिराहे नोएडा से विरोध मार्च निकाला और हरौला लेवर चैक पर मोदी सरकार के पुतले के साथ विरोध प्रदर्शन किया प्रधानमंत्री के पुतला दहन करते हुए ववत नोएडा पुलिस के साथ माकपा कार्यकर्ता की जोरदार झड़प हुई प्रर्दशन कारियों को सम्बोधित करते हुए माकपा जिला सचिव गंगेश्वर दत्त शर्मा ने कहा कि बीजेपी-नीत केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा 500 और 1000 के नोट बंद करने की घोषणा के दो हफ्ते बाद भी लोगों की परेशानियाँ कम नहीं हुई है। कारोबार ठप्प, बाजार बंद, फसलों की बुआई-कटाई बंद, होटल बंद, सब्जी मंडी में हजारों टन सब्जी सड़ गई। घरों व दुकानों पर काम करने वाले मजदूरों, दैनिक या साप्ताहिक दिहाड़ी करने वाले मजदूरों, कारीगरों, ठेका मजदूरों और असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को काम नही मिल रहा है तथा उन्हें वेतन नहीं मिल पा रहा है। वे लाईन में लग कर नोट बदलवाएं या दिहाड़ी करें। भवन निर्माण का काम ठप्प है एक अनुमान के मुताबिक नोटंबंदी की घोषणा के बाद 2 दिनों में देश को 52 हजार करोड़ रूपये का नुकासान हुआ है। कुल मिला कर इस पूँजीपति परस्त जन विरोधी फरमान के कारण अब तक 90 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। लाखों मजदूर छंटनी और तालाबन्दी का शिकार हो गये हैं। नोएडा गौतमबुद्धनगर दिल्ली से मजदूर निरंतर पलायन कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट को भी कहना पड़ा कि दंगे के हालात पैदा हो सकते हैं।

क्या काला धन आम लोगों के पास है जो उन्हें इस परेशानी में झोंक दिया गया? देश का 94 प्रतिशत काला धन विदेशों में जमा है बाकी बचा 6 प्रतिशत काला धन जो देश में मौजूद है उसका 6ः -7ः प्रतिशत हिस्सा की कैश मंे है। विदेशों में जमा कालेधन का ब्यौरा सरकार के पास होते हुए भी उस पर कोई कार्यवाही नहंी हो रही है। नोटबंदी से आतंकवाद की फंडिंग कैसे रूक जाएगी इसका कोई जवाब नहीं है। रिजर्व बैंक की 2015 की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में जारी कुल करेंसी का अति नगन्य हिस्सा, मात्र 0.0007 प्रतिशत ही जाली नोट हैं। इसे निकालने के लिये लाखों करोड़ों का खर्च और इतनी मौंते? जनता जवाब मांग रही है और सरकार सवाल पूछने वालों को देशद्रोही करार दे रही है। 86ः करेंसी 500 और 1000 के नोट के रूप में थी। इसकी भरपाई के ठोस कदम उठाए बिना ही सरकार ने नोटबंदी लागू कर दी। दो हफ्ते बाद भी बंद की गई करेंसी के 10 प्रतिशत के बराबर के नए नोट भी बैंको में नहीं पहुँच सके हैं। भारत में करोड़ों लोगों को रोजमर्रा की मूलभूत जरूरतों के लिए भी नगदी उपलब्ध नहीं हो रही है।

उन्होंने कहा वामपंथी पार्टियाॅ मांग करती है कि (1) देशी-विदेशी बहुराष्ट्रीय पँूजी के हित में लिए गए नोटबंदी के जन विरोधी फैसले को तुरंत वापस ले कर 1000 और 500 के नोट तब तक जारी रखे जायें जब तक कि उचित मात्रा में नए नोटों की उपलब्धता को सुनिश्चित नहीं कर दिया जाता है। (2) किसानों के कर्जे तुरंत माफ किया जायें। (3) बैंकों में 11 लाख करोड़ रूपये के एन.पी.ए. (बट्टे खातें में डाली गई रकम) को वसूलने के लिये देनदारों की सम्पत्तियों को तुरंत जब्त किया जाये। (4) नोटबंदी की वजह से जिनकी मौत हो गई है उनके परिजनों को और जिनकी आजीविका छिन गई है उनको उचित मुआवजा दिया जाये।

विरोध प्रर्दशन को पार्टी नेता आशा यादव, भरत डेन्ज्र, मदन प्रसाद, राम स्वारथ राजभर, पिंकी, वसन्ती देवी, हरकिशन, भीखू प्रसाद, तेजवीर सिंह, रोशन लाल, दिनेश राणा, अन्शू, दिनेश, पपन डांसर, यतेन्द्र, रवीन्द्र भारती, विजय गुप्ता, गामा, दया शंकर झा, महेन्द्र, ललित काशव, परवेज आदि ने सम्बोधित किया।

CONGRESS ON THE ROAD IN NOIDA, BURNS EFFIGY OF PM NARENDRA MODI

लेफ्ट ने आज भारत बंद का एलान किया था भारत बंद भले ही फेल हो गया हो लेकिन कॉंग्रेस नोटबंदी के विरोध में प्रदर्शन ज़ोर शोर से कर रही है नोएडा में भी भारत बंद का असर नहीं…पूरे शहर में जगह जगह कांग्रेसी प्रदर्शन करते नज़र आ रहे …सेक्टर 18 में कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने पीएम मोदी का पुतला फूंका और जम कर विरोध प्रदर्शन किया ..कार्यकरताओ ने हाथो में थाली और चम्मच लेकर मोदी जी शर्म करो और मोदी जी को सध बुद्धि देने जैसे नारों के साथ विरोध प्रदर्शन किया इस् मौके पर शहर के मुख्य बाज़ारो में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है जिससे लायन ऑर्डर न बिगड़ सके

BHARAT BANDH ZERO IMPACT IN NOIDA TRADERS OPEN SHOPS , BUSINESS AS USUWAL

BHARAT BANDH ZERO IMPACT IN NOIDA TRADERS OPEN SHOPS , BUSINESS AS USUWAL

नोट बंदी को लेकर जहा पर सोशल मीडिया पर मुद्दा बना हुआ है वही 28 नवम्बर को भारत बंद का एलान भी सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ था हर कोई इस बात को सोच रहा है भारत बंद की चर्चा सही है या नही । … आज दिल्ली से सटे नॉएडा के सेक्टर 18 और सेक्टर 27 अट्टा मार्किट पर लोगो ने अपनी दुकान और शोरूम प्रधान मंत्री नरेदंर मोदी का समर्थन करते हुए खोली। … व्यापारियों की माने तो नोटबंदी का मोदी का फैसला सही है और तोड़ी सी नये नोट को लेकर पेरशानी तो झेलनी पड़ रही है लेकिन नॉएडा व्यपारी दुकान को खोल रहा है। …..

BHARAT BANDH ZERO IMPACT IN NOIDA TRADERS OPEN SHOPS , BUSINESS AS USUWAL

नोट बंदी को लेकर जहा पर सोशल मीडिया पर मुद्दा बना हुआ है वही 28 नवम्बर को भारत बंद का एलान भी सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ था हर कोई इस बात को सोच रहा है भारत बंद की चर्चा सही है या नही । … आज दिल्ली से सटे नॉएडा के सेक्टर 18 और सेक्टर 27 अट्टा मार्किट पर लोगो ने अपनी दुकान और शोरूम प्रधान मंत्री नरेदंर मोदी का समर्थन करते हुए खोली। … व्यापारियों की माने तो नोटबंदी का मोदी का फैसला सही है और तोड़ी सी नये नोट को लेकर पेरशानी तो झेलनी पड़ रही है लेकिन नॉएडा व्यपारी दुकान को खोल रहा है। …..

नोट बन्दी का विरोध कालेधन का समर्थन।

आलेख – चन्द्रपाल प्रजापति नोएडा

नोटबन्दी के ऐतिहासिक फैसले से पूरे देश मे माहौल गर्म है। जहाँ आम जनमानस धैर्यपूर्वक परेशानी झेलने के बाद भी समर्थन मे खड़ा है। वहीं राहुल गाँधी, अरविन्द केजरीवाल, मुलायम, लालू यादव, मायवती, ममता सहित सभी विपक्षी लोग तिलमिलाहट मे हैं। और पुरजोर से विरोध कर रहें हैं। ये सभी लोग नोटबन्द किये जाने से एक दिन पहले तक कालेधन पर कार्यवाही की मांग कर रहे थे। जब नोटबन्दी के माध्यम से कालेधन पर कार्यवाही कर दी तो परेशान हैं। इससे तो ऐसा लगता है कि इन सभी लोगो का कालाधन मिटटी मे मिल गया हो। इस नोटबन्दी से आतंकवादियों, अलगाववादियों, नक्सलियों, हवाला कारोबारियों, भ्रष्टाचारियों नकेल कसी है। फिर भी सरकार के इस फैसले का विरोध कहीं देशद्रोह तो नही है। ये लोग आम जनता को बहकाकर अशांति फैलाना चाहते हैं जिससे सरकार मजबूरी मे ये नोटबन्दी का फैसला वापस लेले। पर जनता इन लोगो की चाल को भांप चुकी है। वह हर परेशानी को झेलने के बाद भी सरकार के इस फैसले के पक्ष मे है। ग्लोबल मार्केट रिसर्च कम्पनी IPSOS के सर्वे के अनुसार 82% लोग इस फैसले के पक्ष मे हैं और केवल 18% लोग ही खिलाफ हैं। जो सरकार के इस फैसले के पक्ष मे बहुत बड़ा फैसला है और सरकार को मजबूती प्रदान करता है।