ATTACHOWK.COM

Noida news, events, developments, issues, comments on issues

पुलिस उत्पीडन के खिलाफ खुदरा मीट व्यापारी फिर से करेंगे आन्दोलन सड़को पर

नोएडा, खुदरा मीट कारोबारियों के पुलिस उत्पीडन के खिलाफ मांस-मछली, मुर्गा-अण्डा खुदरा व्यापारी जन कल्याण समिति गौतमबुद्धनगर के पदाधिकारियों की बैठक सैक्टर-8 नोएडा कार्यालय पर आर0के0 नवी की अध्यक्षता में हुई बैठक का संचालन सीटू जिलाध्यक्ष गंगेश्वरदत्त शर्मा ने किया बैठक में मुख्य अतिथि /वक्ता के रूप में सी0पी0आई0(एम) पार्टी की वरिष्ठ नेता साहिबा फारूकी भी मौजूद रही है और उन्होंने भी समस्याओं को ध्यान से सुना और अपने सम्बोधन में उन्होंने प्रदेश की सरकार के अल्पसंख्यक व दलित विरोधी चरित्र को रेखाकिंत किया बैठक को सम्बोधित करते हुए नोएडा झुग्गी झोपड़ी संयुक्त पुर्नवास मंच के नेता शाहबुद्वीन ने कहा कि झुग्गी बस्ती/ गांव/काॅलोनी के मीट के दुकानदारों को नोएडा प्राधिकरण एन0ओ0सी0 नहीं दे रही है। जिसके चलते मीट दुकानदारों के लाईसेस नहीं बन रहे है और जो बने हुए है। उनको भी मान्यता नहीं दी जा रही है जबकि झुग्गी बस्ती व गांव के दुकानदार सभी शर्तो को पूरा करने को तैयार है बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि यदि नोएडा प्राधिकरण द्वारा एन0ओ0सी0 नहीं दी जायेगी तो नोएडा प्राधिकरण का घेराव किया जायेगा तथा पुलिस उत्पीडन के खिलाफ भी फिर से मोर्चा खोला जायेगा। बैठक में दिलशाद, उसमान मो0 शमशाद, मो0 इरशाद नसीम कुरेशी आस मोहम्द, मो0 शरीक यामीन गुलजार, दीपक जग्गु मो0 कलाम आदि ने हिस्सा लिया।

पशुओं के प्रति कूरता निवारण समिति के लिये गैर सरकारी सदस्यों को शासन करेगा नियुक्त-डीए म

नोएडा -जिलाधिकारी बीएन सिंह के द्वारा जनपद वासियों को जानकारी देते हुये उनका आहवान किया है कि शासन के निर्देश पर जनपद में पशुओं के प्रति कू्ररता निवारण समिति का गठन किया जाना प्रस्तावित है। गठित की जाने वाली इस समिति में राज्य सरकार के द्वारा 5 या 6 मानवतावादी/ पशु प्रेमी/पशु कल्याणकर्ता के रूप में जिलाधिकारी के संस्तुति के आधार चयन किया जायेगा। इसीप्रकार जनपद में कार्यरत पशु कल्याण संस्थाओं के दो प्रतिनिधि भी राज्य सरकार के द्वारा नामित किये जाने है।

इस सम्बन्ध में उन्होनें जनसामान्य का आहवान किया है कि जनपद के इच्छुक व्यक्ति या संस्था अपने पूर्ण विवरण क्षेत्रीय पशु चिकित्साधिकारी की संस्तुति सहित एक सप्ताह के भीतर मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी कार्यालय विकास भवन में जमा करा सकते है ताकि प्राप्त आवेदनों को संस्तुति करते हुये राज्य सरकार को स-समय भेजा जा सकें। डीएम ने यह भी बताया कि इस सम्बन्ध में अधिनियम या अन्य जानकारी प्राप्त करने के लिये मुख्य पशु चिकित्साधिकारी कार्यालय से सम्पर्क स्थापित किया जा सकता है।

15 जून तक सड़को को गड्ढ़ा मुक्त करने का सभी अधि कारिओ को दिया आदेश – डीएम

नोएडा -जिलाधिकारी बीएन सिंह ने सड़को से सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि जिनके द्वारा अपनी अपनी सड़को को सरकार की मंशा के अनुरूप आगामी 15 जून तक गढ्ढा मुक्त बनाया जाये और इस कार्य में किसी भी स्तर शिथिलता क्षम्य नही होगी।
जिलाधिकारी अपने कैम्प ऑफिस नोएडा के सभागार में सडको से सम्बन्धित कार्यदायी संस्थाओं की समीक्षा करतेे हुये अधिकारियांे को आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे थें।
उन्होंने समीक्षा के दौरान पाया कि लोक निर्माण विभाग के द्वारा 236 किलोमीटर लक्ष्य के सापेक्ष वर्तमान तक 101 किलोमीटर सड़को को गढ्ढा मुक्त किया गया है। इसी प्रकार यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण 54 कि0मी0 के सापेक्ष 14 कि0मी0, ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण द्वारा 29 कि0मी0 के सापेक्ष 5.11 कि0मी0, नोएडा विकास प्राधिकरण के द्वारा 67 कि0मी0 के सापेक्ष 30 कि0मी0 प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में 76 कि0मी0 के सापेक्ष 45.4 कि0मी0 और मंडी के द्वारा 6.4 कि0मी0 लक्ष्य के प्रति शून्य लक्ष्य प्राप्त किये गये है।
समीक्षा के दौरान यह भी पाया गया कि सिंचाई विभाग के द्वारा 111 कि0मी0 का लक्ष्य गढ््ढा मुक्त बनाने का रखा गया था। सिंचाई विभाग के अधिकारियों के द्वारा बैठक में अवगत कराया गया कि उनके द्वारा चयनित सड़को को शासन के दिशा निर्देशानुसार लोक निर्माण विभाग के द्वारा सम्बन्धित सडकों को गढ्ढा मुक्त बनाने के निर्देश प्राप्त हुये है। इसी प्रकार जनपद में ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के द्वारा जो निर्माणाधीन सडके है उनको गढ्ढा मुक्त बनाने के लिए जिला पंचायत के माध्यम से शासन के निर्देशानुसार कार्यवाही अपेक्षित है।
जिलाधिकारी ने सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि 15 जून तक सडकों को गढ्ढा मुक्त बनाये जाना प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। अतः सभी कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारी मा0 मुख्यमंत्री के मन्तव्य को बहुत ही गम्भीरता से लेते हुये अपनी सडको को 15 जून तक गढ्ढा मुक्त बनाये जाने की दृढ़ता के साथ कार्यवाही करेगें। इस सम्बन्ध में श्री सिंह ने जनपद की नगरपालिका एवं पंचायतांे के अधिशासी अधिकारियों तथा जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी को भी निर्देश दिये है कि उनके द्वारा भी अपनी सभी सडको को आगामी 15 जून तक गढ्ढा मुक्त बनाये जाने की कार्यवाही की जायेगी।
जिलाधिकारी ने कहा कि 15 जून के उपरान्त यदि किसी कार्यदायी संस्था की सडको में गढ्ढा पाया जाता है तो सम्बन्धित विभागीय अधिकारी इसके लिए स्वयं जिम्मेदार होंगे। अत सभी अधिकारी इस कार्यक्रम की महत्वता को देखते हुये अपनी सडकों को गढ्ढा मुक्त बनाने में निर्धारित समय के अन्तर्गत उन्हंे सफलता प्राप्त हो सकें। डीएम ने सभी अधिकारियांे का यह भी आहवान किया कि उनके द्वारा जनपद सडकों को गढ्ढा मुक्त कराने के लिए जो सकारात्मक कार्यवाही की जा रही है उसकी जानकारी स्थानीय मा0 विधायक/सांसद गणों को नियमित रूप से उपलब्ध करायी जाये और किये जाने वाले कार्य में पूर्ण पारदर्शिता बरततें हुये कार्य को निर्धारित मानकों के अनुसार पुर्ण किया जाये।
इस अवसर पर अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग/ इस कार्यक्रम के नोडल अधिकारी पी0के0 मिश्रा, सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता एस0के0 शुक्ला, पीएमजीएसवाई के आर0एन0 दास सभी प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर, नगर पालिका/ पंचायतों के अधिशासी अधिकारी एवं अन्य अधिकारी के द्वारा भाग लिया गया।

10 रुपये अधिक देने से किया मना, व्यक्ति के सा थ की मारपीट

नोएडा में तीन सेल्समैन ने एक 45 साल के व्यक्ति की पिटाई कर दी। बात केवल इतनी सी थी कि उसने देसी शराब की बोतल के लिए 10 रुपए अधिक देने से मना कर दिया। ये घटना शनिवार को सेक्टर 41 अगाहपुर गांव में हुई। नरेश यादव के परिवार वालों ने आरोप लगाया कि सेल्समैन ने शराब की बोतल के लिए 70 रुपए की मांग की जबकि इसकी कीमत केवल 60 रुपए थी, जिससे यादव और सेल्समैन के बीच बहस हुई।
नरेश की पत्नी ममता यादव ने आरोप लगाया कि बाबू जो शराब की दुकान के मैनेजर में से एक था, उसने कोर्ट के बाहर मामले को निपटाने के लिए 5000 रुपए देकर उन पर दबाव बनाना चाहा। पुलिस ने इस मामले में 26 साल के मोनू कसाना को हिरासत में ले लिया है बाकी आरोपियों की खोज जारी है।
पुलिस ने अपराध के लिए अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ गैर संज्ञेय रिपोर्ट (एनसीआर) दर्ज कर ली है। अभी तक एफआईआर दर्ज नहीं किया है। एनसीआर में, एक वारंट के बिना कोई गिरफ्तारी नहीं की जाती है और बिना एक अदालती आदेश के बिना जांच शुरू की नहीं किया जा सकता। पुलिस मामले की इंवेस्टिगेशन कर रही है।

31 मई को जनपद में मनाया जायेगा विश्व तम्बाकू निषेध दिवस- डीएम बीएन सिंह

नोएडा – जिलाधिकारी बीएन सिंह ने जानकारी देते हुये अवगत कराया है कि शासन के निर्देश पर आगामी 31 मई को विश्व तम्बाकू निषेध दिवस से पूर्व जनपद में स्वास्थ्य विभाग के तत्वाधान में तम्बाकू निषेध सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है जिसमें विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करते हुये जनसामान्य को तम्बाकू से होने वाली हॉनि एवं उसके दुष्प्रभाव के सम्बन्ध में जानकारी दी जायेगी ताकि तम्बाकू सेवन करने वाले व्यक्ति इसके दुष्परिणाम को जानकर तम्बाकू का प्रयोग बन्द कर सकें।
डीएम श्री सिंह ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के सौजन्य से दिनॉक 25 मई को सेक्टर 8 नोएडा की मस्जिद में मुस्लिम धर्मगुरूओं की तम्बाकू प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया है। दिनॉक 26 मई को श्रम एवं स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त तत्वाधान में गौड़ सिटी ग्रेटर नोएडा वेस्ट में प्रातः 9 बजे से श्रमिकों के बीच लेबर कैम्प का आयोजन करते हुये उन्हें तम्बाकू से होने वाले नुकसान के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी जायेगी। सायं 8 बजे अम्बेडकर छात्रावास ग्रेटर नोएडा में इस सम्बन्ध में कैंडल मार्च निकाला जायेगा। इसीप्रकार 27 मई को ईएसआई अस्पताल सेक्टर 24 नोएडा में हस्ताक्षर अभियान एवं जागरूकता कैम्प का आयोजन किया जायेगा और इसी दिन दूसरे चरण में ग्राम सबोता, जेबर में तम्बाकू जागरूकता कैम्प का आयोजन होगा।
उन्होनें बताया कि 29 मई को बॉटनिकल मैट्रो स्टेशन नोएडा में नुक्कड नाटक एवं हस्ताक्षर अभियान, आईटीएस डेन्टल कालेज ग्रेटर नोएडा में पोस्टर एवं रंगोली प्रतियोगिता तथा जिला संयुक्त चिकित्सालय सेक्टर 30 नोएडा में तम्बाकू जागरूकता कैम्प एवं हस्ताक्षर अभियान का संचालन होगा। दिनॉक 30 मई को जीआईसी सेक्टर 18 नोएडा से काशीराम दलित प्रेरणा पार्क तक तम्बाकू जागरूकता आटो रैली का आयोजन होगा तथा सिटी सेन्टर मैट्रो स्टेशन पर नुक्कड़ नाटक एवं हस्ताक्षर अभियान चलाया जायेगा। डीएम ने बताया कि विश्व तम्बाकू दिवस 31 मई को आईटीएस डेन्टल कालेज ग्रेटर नोएडा में तम्बाकू जागरूकता रैली एवं गौष्ठी का आयोजन, जिला कलेक्टेªट सूरजपुर से परीचौक तक ऑटो रैली, राजकीय जिला संयुक्त चिकित्सालय सेक्टर 30 नोएडा, मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय सेक्टर 39 नोएडा तथा ग्राम सलारपुर विसरख नोएडा में जागरूकता कैम्प एवं हस्ताक्षर अभियान चलाते हुये जनसामान्य को तम्बाकू के प्रयोग से होने वाले नुकसान के प्रति जागरूक किया जायेगा और आयोजित कार्यक्रमों का यही मुख्य उद्देश्य है कि तम्बाकू सेवन करने वाले व्यक्ति इससे होने वाले नुकसान की जानकारी प्राप्त करते हुये अपने जीवन भविष्य को सुखद बनाने के लिये तम्बाकू का प्रयोग करना छोड़ सके।-

स्वास्थ्य विभाग की एंटी टोबैको सेल ने एक द ूकान पर मारा छापा, भांग की 16 पुड़िया बरामद

नोएडा – सेक्टर 168 स्थित एक नामी स्कूल के सामने (100 गज के भीतर) स्वास्थ्य विभाग की एंटी टोबैको सेल ने एक दुकानदार के पास से 16 पुड़िया भांग बरामद की है। एंटी टोबैको सेल ने इसकी सूचना तत्काल पुलिस को दी। इस पर कार्रवाई करते हुए एक्सप्रेस-वे कोतवाली की पुलिस ने विक्रेता को भांग समेत गिरफ्तार कर लिया।

नोडल अधिकारी डॉ. भरत भूषण शर्मा व जिला सलाहकार डॉ. श्वेता खुराना ने बताया कि स्कूल के गेट से महज 100 गज के दायरे में नशे (भांग व तंबाकू) का कारोबार किया जा रहा था। इसकी सूचना तत्काल पुलिस को दी गई। इस दौरान मौके पर छह तंबाकू विक्रेताओं का चालान भी काटा गया। उन पर कुल 2750 रुपये का जुर्माना लगाया गया। उन्होंने बताया कि तंबाकू विक्रेता सिगरेट एंड अदर टोबैको प्रोडक्ट एक्ट (कोटपा)-2003 की धारा 05 व 06 का उल्लंघन करते पाए गए। इसमें शैक्षणिक संस्थान से 100 गज की परिधि में धारा 06 के अंतर्गत तंबाकू उत्पाद बेचना प्रतिबंधित है। वहीं धारा 05 के अंतर्गत तंबाकू उत्पादों के प्रत्यक्ष व परोक्ष विज्ञापन पर पूर्ण प्रतिबंध है। इसका दोषी पाए जाने पर छह दुकानदारों का चालान काटा गया। भांग विक्रेता रामबल मूलरूप बिहार का रहने वाला है, जो स्कूल के गेट के पास चाय की दुकान चलाता है। वह नोएडा के छपरौली में रहता है।

-स्वास्थ्य विभाग की सूचना के आधार पर पुलिस ने मौके से पहुंचकर भांग विक्रेता रामबल को गिरफ्तार कर लिया है। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। मौके से 16 पुड़िया भांग बरामद की गई है।

नोएडा प्रशासन की मिलीभगत से चल रहा है पानी का अवैध कारोबार

नोएडा में पानी का अवैध कारोबार शहर में तेजी से फल-फूल रहा है। जगह-जगह इसके अवैध प्लांट लगे हुए हैं। इन अवैध प्लांटों से रोजाना पांच लाख लीटर से अधिक पानी शहर में बेचा जा रहा है। यह पानी अशुद्ध, गैर शोधित व टीडीएस युक्त हो सकता है। इसमें कई तरह के खतरनाक तत्व हो सकते हैं, जो पानी को जहर बना देते हैं। लेकिन, लोग पैसे देकर भी यही जहर पीने को मजबूर हैं ज्यादातर प्लांट ग्रामीण क्षेत्रों में व सेक्टर से लगे क्षेत्रों में गुप्त रूप से संचालित किए जा रहे हैं। पानी का अवैध कारोबार कर रहे एक संचालक ने बताया कि उसका अपना खुद का बोर है। इसमें से पानी निकलकर टंकियों में आता है। संचालक ने दावा किया कि वह पानी को शोधित करके जार में भरता है। हालांकि, पानी को शोधित करने की प्रक्रिया वह नहीं समझा सका। पानी का प्लांट चलाने के लिए मानक के बारे में भी उसे कोई जानकारी नहीं है। इतना ही नहीं इसके लिए संचालक के पास कोई लाइसेंस भी नहीं है। अनुमान के मुताबिक वह रोजाना आठ सौ से 1000 बोतलें बेचता है। यानी, करीब 20 हजार लीटर पानी रोजाना। शहर में इस तरह के 50 से ज्यादा प्लांट हैं, जहां से रोजाना पांच-छह लाख लीटर पानी 20-20 लीटर वाले जार में भरकर बेचा जाता है।

20 से 30 रुपये होती है कीमत :

एक बोतल की कीमत संचालक 10 से 12 रुपये लगाता है। वह पानी को थोक में बेचता है। प्लांट पर रोजाना कई गाड़ियां आती हैं, जो 20-20 लीटर के 100 से 200 जार ले जाती हैं। इसे ले जाने के बाद वह लोगों तक पहुंचाने के लिए 20 से 30 रुपये का चार्ज वसूलती हैं। इसके बावजूद पानी की शुद्धता की कोई गारंटी नहीं होती। न ही इसकी पैकिंग, लेवलिंग का कोई मानक होता है।

होटल, ढाबा, सेक्टर, गांव व झुग्गियों में होती है सर्वाधिक बिक्री: अवैध प्लांट से पानी की सर्वाधिक खपत छोटे-मोटे होटलों ढाबों, रेहड़ियों, सेक्टरों, गांवों व झुग्गियों में सर्वाधिक होती है। यह कारोबार शहर में बड़े पैमाने पर फैल चुका है।

अधिकारी देते हैं पानी माफिया को संरक्षण:

पड़ताल में पता चला कि ये सभी अवैध प्लांट अधिकारियों की नजर में हैं, लेकिन वह सभी पानी माफिया को संरक्षण देने का काम कर रहे हैं। प्रशासन इन पानी माफिया पर कोई कार्रवाई नहीं करता। कभी करता भी है तो सिर्फ दिखावे के लिए। सूत्र बताते हैं कि संरक्षण प्राप्त करने के बदले पानी माफिया मोटी रकम अधिकारियों को भी पहुंचाते हैं। इसमें सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों का हिस्सा होता है।

यहां हैं सर्वाधिक अवैध प्लांट:

पानी के अवैध प्लांट शहर में जगह-जगह कुकुरमुत्ते की तरह फैले हुए हैं। सर्वाधिक अवैध प्लांट सेक्टर 08, 09, बरौला, हरौला, छिजारसी, मामूरा, झुंडपुरा, सर्फाबाद, सोरखा, गढ़ी चौखंडी, छलेरा, भंगेल, मोरना, सदरपुर इत्यादि जगहों पर हैं।

बड़े पैमाने पर हो रहा भूजल का दोहन :

इन अवैध प्लांटों से रोजाना लाखों लीटर भूजल का दोहन हो रहा है। संबंधित विभागों के अधिकारी सबकुछ जानते हुए भी कोई कार्रवाई करने से बच रहे हैं। लिहाजा पानी माफिया शहर के अधिकांश क्षेत्रों में लगातार अपना कब्जा जमाते जा रहे हैं। हालत यह है कि आधा से ज्यादा शहर इसी पानी पर निर्भर हो चुका है।

अशुद्ध पानी पीने से हो सकती हैं यह बीमारियां:

कैलाश अस्पताल के वरिष्ठ फिजियोलोजिस्ट डॉ. एके शुक्ला के अनुसार इस तरह के पानी में बैक्टीरिया वायरस, कई तरह के खतरनाक रसायन, भारी धातु जैसे लेड, जिंक, कॉपर इत्यादि हो सकते हैं, जो सेहत के लिए अत्यंत खतरनाक हैं। इस तरह का अशुद्ध पानी पीने से हेपेटाइटिस ए, बी व सी हो सकता है। इसके अलावा वायरल व बैक्टीरियल इंफेक्शन, टायफाइड, पीलिया, गैस्ट्रोइंटेटाइटिस, डिहाइड्रेशन जैसी समस्या हो सकती है। लगातार इस तरह का अशुद्ध पानी पीने से किडनी व लीवर तक खराब हो सकते हैं।

हिन्दू मुस्लिम ने एक दूसरे को किडनी देकर भ ाईचारे कि मिसाल कायम की

नोएडा – हिन्दू मुस्लिम की एकता को बरक़रार रखने के लिए दोनों धर्मो के लोगो ने एक दूसरे को किडनी देकर अपने लोगो की जान बचाई। और एक मिशाल भी पेश की। समाज के कुछ अराजक तत्व भले ही ¨हदू-मुस्लिम के नाम पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम करते हों, लेकिन एक ¨हदू व एक मुसलमान महिला ने एक दूसरे के पति की जान बचाकर एकता की अद्भुत मिसाल पेश की है। जेपी अस्पताल में भर्ती दोनों महिलाओं के पति को किडनी की जरूरत थी, लेकिन दोनों की किडनी अपने पति के ग्रुप से मैच नहीं कर रही थी। इसके बाद दोनों महिलाओं ने एक दूसरे के पति को अपनी किडनी दान करने का सराहनीय फैसला ले डाला।

ये दोनों महिलाएं भले ही विपरीत धर्म से थीं, लेकिन वह न तो ¨हदू बनना चाहती थीं और न ही मुसलमान। ऐसे मौके पर वह सिर्फ इंसान बनना चाहती थी। आखिरकार उन्होंने इंसानियत की बड़ी मिसाल पेश की। ग्रेटर नोएडा निवासी 29 वर्षीय मरीज इकराम को बागपत निवासी 36 वर्षीय मरीज राहुल की पत्नी पवित्रा ने एवं राहुल को इकराम की पत्नी रजिया ने अपनी किडनी दान की।

इन मरीजों का ऑपरेशन किडनी प्रत्यारोपण विभाग के वरिष्ठ सर्जन डॉ. अमित देवड़ा, डॉ. मनोज अग्रवाल, डॉ. अब्दुल मनन एवं नेफ्रोलॉजी विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. अनिल भट्ट, डॉ. भीम राज, डॉ. हारूल की टीम ने किया। डॉक्टरों ने महिलाओं को इस तरह किडनी दान करने को भी प्रेरित किया।

डीएम बीएन सिंह द्वारा खाद्य सुरक्षा एवं औ षधी प्रशासन कार्यालय पर मारा छापा

नोएडा – डीएम बीएन सिंह द्वारा खाद्य सुरक्षा एवं औषधी प्रशासन कार्यालय का किया आकस्मिक निरीक्षण, लाईसेंश नवीनीकृत पत्रावलियों में देरी की संभावना की दृष्टि से 20 पत्रावली की जब्त, अतिरिक्त मजिस्टेªट वीके श्रीवास्तव को सौपी जॉच।
गौतमबुद्धनगर 22 मई, 2017
जिलाधिकारी बीएन सिंह के द्वारा जनपद के सभी कार्यालयों में कार्यसंस्कृति में सरकार की मंशा के अनुरूप बदलाव लाने एवं अधिकारियों तथा कर्मचारियों के द्वारा समयवद्धता के साथ कार्यालयों में उपस्थित होकर सभी कार्यो को समय पर पूर्ण कराते हुये जनता को एक समय पर डिलीवरी मिलें इसके लिये गोपनीय तरीके से निरन्तर छापामार अभियान चलाया जा रहा है।
डीएम द्वारा इस कड़ी में आज सुबह 10.15 बजे औचक रूप से जिला खाद्य एवं औषधी प्रशासन विभाग कार्यालय में पहुॅचकर निरीक्षण किया तो वहॉ पर जिलाधिकारी को 20 पत्रावलियॉ ऐसी मिली जो प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत किया गया कि औषधी लाईसेंश धारकों के नवीनीकरण में जानबूझकर देरी की जा रही है और उन्हें समय पर मेरठ के अधिकृत अधिकारी को नहीं भेजा गया है। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी बीएन सिंह द्वारा सभी संदिग्ध पत्रावलियों को जब्त करते हुये इसकी जॉच अतिरिक्त मजिस्टेªट वीके श्रीवास्तव को सौपी गयी है।
डीएम ने इस सम्बन्ध में उन्हें निर्देश दिये है कि उनके द्वारा जॉच के दौरान विभागीय नियमों का अध्ययन करते हुये यह देखा जाये कि किस स्तर पर सम्बन्धित पत्रावलियों में देरी हुयी है और किस अधिकारी के कारण से सम्बन्धित लाईसेंश धारकों को समय पर उनके लाईसेंश नवीनीकृत नहीं है। इस सम्बन्ध में सघन जॉच करते हुये जॉच आख्या उन्हें प्रस्तुत की जाये और यदि इसमें किसी स्तर की लापरवाही एवं शिथिलता पायी जाये तो सम्बन्धित अधिकारी एवं कर्मचारी के विरूद्ध कार्यवाही भी प्रस्तुत की जाये। इसके उपरान्त जिलाधिकारी द्वारा एआईजी स्टाम्प कार्यालय का औचक निरीक्षण किया जहॉ पर उन्होनें सफाई व्यवस्था के निर्देश दिये। डीएम द्वारा खनन कार्यालय का भी निरीक्षण किया गया यहॉ पर जिला खनन अधिकारी मौजूद नहीं मिलें स्टाफ द्वारा बताया गया कि उनके पास गाजियाबाद जनपद का भी चार्ज है। डीएम द्वारा मौके पर ही खनन अधिकारी को मोवाईल से बात की और निर्देश दिये कि उनके द्वारा दोनों जनपदों में उपस्थित रहने के सम्बन्ध में दिनों की जानकारी कार्यालय के बोर्ड पर प्रस्तुत की जाये।
जिलाधिकारी ने इससे पूर्व कलेक्टेªट परिसर का स्थलीय निरीक्षण भी किया और सम्बन्धित अधिकारियों को कार्यालय में अधिकारी एवं कर्मचारी समय पर उपस्थित होने एवं कार्यालयों में सफाई व्यवस्था दुरूस्थ रखने के निर्देश भी मौके पर सम्बन्धित अधिकारियों को दिये। उनके औचक निरीक्षण के दौरान अतिरिक्त मजिस्टेªट वीके श्रीवास्तव भी साथ में मौजूद रहे।-राकेश चौहान सूचनाधिकारी गौतमबुद्धनगर।

अंतरिक्ष बिल्डर के खिलाफ फ्लेट बॉयर्स ने किया प्रदर्शन

नोएडा में सेक्टर 78 में अंतरिक्ष बिल्डर का अंतरिक्ष गोल्फ 2 के नाम से प्रोजेक्ट है जिसमे अप्रूवल नक्से के हिसाब से 910 फ्लेट है जबकि बिल्डर ने बिना बॉयर्स की सहमति के 1050 फ्लैट बनाए है, जिसमे बिल्डर ने प्राधिकरण से बिना कंप्लीशन सर्टिफिकेट लिए सेकड़ो बॉयर्स को एक साल पहले ही खंडर में रहने के लिए पोजेशन दे दिया बॉयर्स के पास कोई ऑप्शन भी नही था, बॉयर्स घर की ईएमआई भरे घर का किराया दे या बच्चों की फीस भरे, उसके बाद बिल्डर ने जो बॉयर्स को सपने दिखाए उसमे से सभी नदारद मिले, बहुत सी समस्याएं बॉयर्स ने सामने रखी उसमे प्रमुख रूप से यह है ।
1. बिल्डर प्राधिकरण के नक्शों में छेड़छाड़ कर रहा है, बिना नक्शा पास कराए अवैध निर्माण सोसायटी में कर रहा है जब बॉयर्स को फ्लेट बेचा था तब ग्राउण्ड फ्लोर पर स्टिल पार्किंग बोला गया था लेकिन अब बिल्डर कुछ दिनों से बड़ी तेजी के साथ स्टिल पार्किंग की जगह फ्लेट बना रहा है

2. ग्रीन एरिया को बिल्कुल खत्म कर दिया गया है कई जगह ग्रीन एरिया की जगह पार्किंग का काम तेजी से चल रहा है
3. सुभिधाए जो बॉयर्स को बोली गयी थी उसका अभी कही पता नही है फूल बैडमिंटन कोर्ट, फुल टेनिस कोर्ट, गजीबो, लॉन, पार्टी लॉन, जेन गार्डन, क्लब हाउस, योगा, मेडीटेशन एरिया आदि
4. सिक्युरिटी के नाम पर कुछ गॉर्ड है न ही अभी तक पूरी जगह सीसीटीवी कैमरा नही लगे है फायर इक्विपमेंट का कोई चेकअप नही हुआ है ।
5. बिना परमिशन के पेंटहाउस बिल्डर बना रहा है, बॉयर्स को किसी भी तरह कम्युनिकेशन बिल्डर द्वारा नही किया गया हैं ।
बॉयर्स ने मांग की है कि प्राधिकरण तुरंत सज्ञान ले और अवैध निर्माण को अतिशीघ्र ही रुकवाए, निवासियों को डर है ग्राउंड फ्लोर पर फ्लेट होने से कोई भी ग्राउंड फ्लोर फ्लेट ओनर्स अपने फ्लैट के सामने कुर्सी, खाट, डालकर बैठ जाएगा तो वो सोसायटी नही कॉलोनी बन जाएगी, लेआऊट प्लान में बहुत सारी जगह फेरबदल किया गया है बॉयर्स ने आरोप लगाया बिना प्राधिकरण की सहमति से यह सम्भव नही है, प्राधिकरण और बिल्डर से कई बार मीटिंग की लेकिन कोई नतीजा नही निकला, प्राधिकरण के अधिकारियों ने बस आस्वाशन देकर भेज दिया कहा प्रोजेक्ट की विजिट करायेगे आज तक विजिट नही हुई।

नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान ने बताया फ्लेट बॉयर्स का दुख अब देखा नही जाता बॉयर्स को कंक्रीट के जंगलों में रहने को मजबूर कर दिया है धूल उड़ रही है नीचे काम चल रहा है, अवैध निर्माण हो रहा है प्राधिकरण अपनी आँखों को मूंद कर बैठा है, प्राधिकरण से बात करके जल्द ही बॉयर्स की समस्या का समाधान कराया जायेगा, सरकार से काफी उम्मीदें है हम उनसे भी अपनी बात कहेगें, हम बिल्डर की शिकायत प्राधिकरण में भी करेंगे ।

प्रदर्शन करने वालो में परवेश, समीर, विवेक, अभिषेक पांडे, फ्रांसिस आदि बॉयर्स ने हिस्सा लिया