Noida Latest News

70 साल की आज़ादी के बाद भी देश के युवा शिक्षा औ र रोजगार से आज भी महरूम

नोएडा – हम आजादी के 71 वें वर्ष में पहुंच गए हैं। इतने सालों में देश ने विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति की है, लेकिन देश की सबसे बड़ी चुनौतियों से हमें अब भी लड़ना पड़ रहा है। अशिक्षा, गरीबी और बेरोजगारी अब तक खत्म नहीं हुए हैं। आज यह समस्याएं हर सरकार के लिए एक चुनौती बन चुकी हैं लेकिन अफसोस आज तक इनका हल नहीं हो सका है। आधुनिकता की दौड़ में सामाजिक कुरीतियां देश की छवि को धूमिल कर रही हैं। अपराध एवं बाल श्रम के बढ़ते मामले देश की छवि को खराब कर रहे हैं। हम सबको आज इन चुनौतियों से जल्द निपटने का संकल्प लेना होगा। हमारे जिले में भी कई समस्याएं हैं जो आज तक हल नहीं हो सकी हैं।
शिक्षा – शिक्षा का अधिकार अधिनियम के बावजूद यह शहर अशिक्षा के कलंक से दूर नहीं हो पाया है। शिक्षा महंगी होने के चलते कई विधार्थी इससे वंचित हैं। वहीं प्राथमिक स्तर पर ड्राप आउट बच्चों को जोड़ने के लिए कोई खास प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। आजादी के 71 वें वर्ष पर सरकार को शिक्षा का एक स्तर बनाना होगा। बारहवीं तक शिक्षा को अनिवार्य कर पूर्ण रूप से मुफ्त करना होगा ताकि अशिक्षा का कलंक जल्दी दूर हो जाए। शहर की स्लम बस्ती में रहने वाले कई बच्चे प्राथमिक शिक्षा से वंचित हैं, जिनकी पहचान शिक्षा विभाग नहीं कर सका है। इसके लिए सघन अभियान चलाने की जरूरत है ताकि देश तरक्की की उड़ान भर सके। शहर में साइकिल चलाने वाले, मजदूरी करने वाले कई परिवार ऐसे हैं, जिनकी दिन की कमाई से शाम को घर का चूल्हा जलता है। अशिक्षा के कारण गरीबी की दीवार मोटी होती जा रही है। नोटबंदी के समय भी ऐसे कई मजदूर सामने आए थे जिन्हें बासी रोटी नसीब हो रही थी। गरीबी को दूर करने के लिए शहर में प्रौढ़ शिक्षा केंद्र नियमित रूप से चलाना चाहिए। मजदूरों का उनकी रुचि के आधार पर कौशल विकास किया जाना चाहिए। जो मजदूर काम नहीं कर सकते उन्हें और जरूतरमंद गरीब को राशन देने की अलग से व्यवस्था की जानी चाहिए। बेरोजगारी – दिल्ली एनसीआर की इस हाईटेक सिटी में शिक्षित बेरोजगारों की संख्या बढ़ती जा रही है। जो युवा शिक्षा प्राप्त कर चुके हैं, उनको रोजगार नसीब नहीं हो रहा है। स्कूल, कॉलेजों में इंफ्रास्ट्रक्चर के अभाव में उनका कौशल विकास नहीं हो सका है। ऐसे में कंपनियों की तरफ से नौकरी के अवसर नहीं दिए जा रहे हैं। कंपनियों में पहुंचने पर यह सवाल किया जाता है कि क्या काम आता है, तब विधार्थ कोई जवाब नहीं दे पाते हैं। वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में बदलाव कर प्रायोगिक ज्ञान की तरफ ध्यान दिया जाना चाहिए ताकि पढ़ाई पूरी होते ही युवा वर्ग अपनी कमाई से घर को सहारा दे सकें। नोएडा में हर वर्ष हजारों की संख्या में शिक्षित बेरोजगार सामने आ रहे हैं, जिनको नौकरी पाने के लिए भटकना पड़ रहा है।

डीएम बी एन सिंह ने राजकीय संप्रेक्षण गृह क िशोर पहुचे और निरूद्ध बच्चों से मिले अपने भव िष्य को अच्छा बनाने के लिए उन्हें प्रेरणा दी

गौतमबुद्ध नगर – स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर बी एन सिंह राजकीय संप्रेक्षण गृह किशोर फेस-2 नोएडा में पहुंचे । जहां पर उन्होंने निरूद्ध बच्चों से बात की और अपने भविष्य को अच्छा बनाने के लिए उन्हें प्रेरणा दी। उन्होंने बच्चों को शपथ दिलाई। कि भविष्य में उनके द्वारा अब कोई ऐसा गलत कार्य नहीं किया जाएगा । जिसके कारण उन्हें ऐसे स्थान पर आना पड़े । सभी बच्चों ने जिलाधिकारी को इस अवसर पर आश्वस्त किया। कि उनके केस खत्म हो जाने के उपरांत उनके द्वारा अपने जीवन में अच्छे कार्य किए जाएंगे ।और समाज में अच्छा बनने का प्रयास उनके द्वारा किया जाएगा ।जिलाधिकारी द्वारा इस अवसर पर सभी बच्चों को मिष्ठान का वितरण भी किया गया । जिलाधिकारी ने राजकीय संप्रेक्षण गृह में निरूद्ध बच्चों की पढ़ाई की व्यवस्था करने के सम्बन्ध में जिला समाज कल्याण अधिकारियों को निर्देश दिए ।और कहा कि सभी बच्चों को प्रतिदिन योगा कराया जाए ।साथ ही उनके इनडोर खेल खेलने की व्यवस्था भी कराई जाए । बच्चों को कंप्यूटर का ज्ञान भी दिला दिया जाए ।उन्होंने यह भी कहा कि सभी जिलास्तरीय अधिकारियों से बात करते हुए उन्हें बताया जाए। कि जनपद स्तरीय एक अधिकारी प्रत्येक दिन राजकीय संप्रेक्षण गृह में पहुंचकर बच्चों से बात करेंगे। और उनको अच्छा बनने की प्रेरणा देंगे।

सुपरटेक को नही मिली राहत जल्द जमा कराने हो ंगे 10 करोड़ रुपये, सुप्रीम कोर्ट का आदेश

नोएडा। सेक्टर- 93 ए में निर्माणधीन सुपरटेक इमेराल्ड टावरों पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए सुपरटेक बिल्डर को आदेश दिया कि वह 18 सितंबर तक 10 करोड़ रुपये रजिस्ट्री मे जमा कराएं। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि इस पैसे से निवेशकों का पैसा वापस किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि सेक्टर- 93 ए में सुपरटेक बिल्डर के कई फ्लैट्स हैं और बिल्डर ने यहां एक नया प्रोजेक्ट इमेराल्ड का निर्माण कार्य शुरु किया था। जिसमें 40 मंजिला दो टावरों का निर्माण किया गया है। हालांकि वहां मौजूद बाकि सोसायटी वालों ने इस प्रोजेक्ट को आवैध बताते हुए इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी।

इस याचिका में बताया गया था कि इस प्रोजेक्ट के निर्माण से यहां रहने वाले लोगों को दिक्कतें होंगी क्योंकि यहां निर्माण नियमों के मुताबिक नहीं किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट में फ्लैटों के बीच के स्पेस का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई करते हुए बिल्डर को बड़ा झटका देते हुए इन दोनों टावरों को गिराने के आदेश दिए थे।

जिसके बाद बिल्डर ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के टावर को गिराने के फैसले पर रोक लगा दी थी और 14 फीसदी ब्याज के साथ खरीदारों को रकम वापस करने के लिए कहा था। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन निरिक्षण करने के आदेश दिए थे कि वह बताएं कि टावरों का निर्माण नियमों के मुताबिक है या नहीं। जिसके बाद एनबीसीसी ने अपनी रिपोर्ट कोर्ट में सौंपी जिसमें बताया गया कि टावरों में नियम के मुताबिक दूरी का ध्यान नहीं रखा गया है।

स्वतंत्रता दिवस पर पुलिस रही सख्त, उधर चोर ो ने किया हाथ साफ

नोएडा : जहाँ एक तरफ पूरा देश आज़ादी का जश्न मनाने में व्यस्त है, वहीँ चोरों को चोरी की वारदात को अंजाम देने से फुरसत नहीं है और पुलिस इनपर नकेल कसने में लगातार विफल साबित हो रही है। हम बात कर रहे हैं, दिल्ली से सटे हाईटेक सिटी नोएडा की, जहां स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर चोरों ने एक बैंक और एक एटीएम में चोरी की वारदात को अंजाम दिया है।

दरअसल स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर नोएडा पुलिस ने दिल्ली-नोएडा की सीमाओं पर जहाँ मुस्तैदी से अपनी डयूटी निभाई है, वही थाना सेक्टर 20 के गंगा शापिंग सेंटर में चोरों ने भी अपने हुनर का कमाल दिखाया है। चोरों ने एक बैंक और एक एटीएम से पांच AC पर हाथ साफ कर दिया। बताया जा रहा है कि चोरों ने आईसीआईसीआई बैंक में चोरी की वारदात को अंजाम दिया। चोर सेक्टर 29 की चौकी के नाक के नीचे चोरी करती रहे और थाना 20 पुलिस सोती रही। ऐसे में सवाल उठता है कि आज ही सम्मानित हुए एसएसपी साहब कैसे इस तरह की पुलिस के साथ कानून व्यवस्था ठीक कर सकेंगे, जिस थाने के प्रभारी को अपने इलाके की घटना की ही जानकारी नही हो। वैसे सवाल थाना सेक्टर 20 के थाना प्रभारी अनिल साही पर भी उठने लाज़िमी हैं। थाना सेक्टर 20 इलाके में लगातार एक के बाद एक जिस तरह की आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है, उससे अनिल साही की कार्यशैली पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। सवाल ये कि क्या बदमाशों में कानून व्यवस्था का खौफ खत्म हो गया है ? सवाल ये कि क्या खुद को हाईटेक कहने वाली नोएडा पुलिस बदमाशों के बुलंद हौसलों के आगे घुटने टेक चुकी है ? सवाल ये कि आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वाले बदमाशों पर क्यों कोई कठोर कार्यवाही नहीं की जाती ? ऐसे कई सवाल हैं, जिनका जवाब पुलिस प्रशासन की तरफ से दिया जाना बांकी है।

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर किया श हीदों को दीप जलाकर श्रद्धांजलि दी

नोएडा। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमण्डल नोएडा इकाई द्वारा नोएडा सेक्टर-40 स्तिथ प्रवक्ता चन्द्रप्रकाश गौड़ के कार्यालय परस्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर देश के लिएप्राण न्योछावर करने वाले वीरो को दीप जलाकरश्रद्धांजलि दी गई। इस अवसर पर जिला अध्यक्षनरेश कुच्छल ने कहा कि भारतीय सैनिक अपनीजान पर खेल कर हमारे वतन को सुरक्षित औरस्वतन्त्र बनाये रखते है| उनकी वीरता औरकर्त्तव्य-भावना के लिए पूरा देश उन्हें सम्मान कीनज़रों से देखता है| वैसे तो हम में से लगभगसभी को उनके योगदान और उनकी उपलब्धियोंके बारे में कुछ न कुछ तो पता ही है| प्रवक्ताचंद्रप्रकाश गौड़ ने बताया की भारतीय सेना केअनुशासन की मिशाल है । इस देश के नीतिकारोंको इस गम्भीर विषय पर विचार कर भारतीयसैनिकों की पीड़ा को समझना चाहिए कि घर-परिवार से दूर रहना कितना पीड़ादायक होता है ।इस गम्भीर समस्या के समाधान हेतु कोई ठोसकदम उठाना चाहिए ताकि भारतीय सैनिकों कोघर-परिवार से दूर रहने की पीड़ा न झेलनी पड़े ।भारतीय सैनिक ही देश के सच्चे सेवक वदेशभक्त हैं जो सैकड़ो कष्ट उठाकर इस देश कोसुरक्षित रखते हैं । रतीय सैनिकों को समाज वदेश में विशिष्ट दर्जा प्राप्त होगा तो निश्चित हीभारतीय युवाओं के दृष्टिकोण में बदलाव आयेगाऔर भारतीय युवाओं का भारतीय सेना में भर्तीके विषय में दृष्टिकोण में बदलाव ही भारतीयसेना के महत्व को और अधिक मजबूती प्रदानकरेगा ।इस अवसर पर लेफ्टिनेंट कर्नल बिशन दत्त, विनोद नामदेव अध्यक्ष साप्ताहिक बाज़ार, सुनील कुमार, लाल बहादुर तिवारी, देवेंदर, चंद्रप्रकाश गौड़, मूलचंद गुप्ता ( कोष अध्यक्ष),अभिनंदन भादोरिया, विकास जैन मंत्री बरोला, दीपक गर्ग, आश्रय गुप्ता ( महानगर अध्यक्ष यूथब्रिगेड सपा), मोनू खारी, आसिफ़ फ़ौजी, दीपकनागर, सहित भारी संख्या व्यापारी एवं स्थानीयनिवासी मौजूद रहे।

नोएडा : पंचशील बालक इन्टर कॉलेज में मनायी गई श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, नन्हें छात्रों ने द िखाया अपनी प्रतिभा का हुनर

नोएडा : आज दिनांक 14 अगस्त, 2017 को नॉएडा के सेक्टर-91 स्थित पंचशील बालक इन्टर कॉलेज में कक्षा 1 से 5 तक के जूनियर छात्रों के मध्य श्री कृष्णजन्माष्टमी मनाई गयी।

बॉटनिकल गार्डन से जल्द शुरू होगी कालकाजी तक ड्राइवरलेस मेट्रो, ट्रायल जारी

नोएडा से कालकाजी और जनकपुरी की तरफ जाने वाले यात्रियों को जल्द ही मेट्रो का सफर मिलेगा | दरसल , नोएडा सेक्टर-38ए बॉटेनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन से जनकपुरी वेस्ट दिल्ली तक (मैजेंटा लाइन) मेट्रो का ट्रायल करीब 10 महीने से चल रहा है। अब स्टेशनों पर सुविधाएं देने का काम भी शुरू कर दिया गया है। बॉटेनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन पर 22 ऑटोमेटिक फेयर कलेक्शन गेट और पांच टोकन वेंडिंग मशीन लगा दी गई हैं। बॉटेनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन से जनकपुरी तक जाने वाली लाइन का काम लगभग पूरा हो चुका है। इस लाइन पर कालकाजी से बॉटेनिकल गार्डन तक रोजाना ट्रायल चल रहा है। यह रास्ता करीब 13 किलोमीटर लंबा है। डीएमआरसी की प्रवक्ता ने बताया कि ट्रायल से पूरी तरह संतुष्ट हो जाने पर सेफ्टी इंस्पेक्शन कराने के लिए मेट्रो रेल सेफ्टी कमिश्नर को पत्र लिखा जाएगा। उम्मीद है कि अक्तूबर से कालकाजी मंदिर तक के हिस्से में मेट्रो चलानी शुरू कर दी जाएगी, बाकी हिस्से में मार्च 2018 से मेट्रो चलेगी। प्रवक्ता ने बताया कि इस लाइन पर चलने वाली मेट्रो ड्राइवर रहित होगी, हालांकि सुरक्षा के लिहाज से ड्राइवर तैनात रहेगा। जनकपुरी लाइन के लिए अलग से स्टेशन बनाया गया है, हालांकि एक-दूसरे स्टेशन पर आने-जाने के लिए लोगों को नीचे उतरने की जरूरत नहीं पड़ेगी। डीएमआरसी अधिकारियों का कहना है कि जनकपुरी तक मेट्रो चलनी शुरू होते ही शुरुआत में 80 हजार राइडरशिप का अनुमान है। बॉटेनिकल गार्डन के अलावा ओखला पक्षी विहार स्टेशन ही नोएडा में है। पक्षी विहार स्टेशन पर उतरकर लोगों को पक्षी विहार के साथ-साथ यमुना का बेहद खूबसूरत नजारा भी देखने को मिलेगा।