Daily Archive: November 21, 2017

नॉएडा : पेट्रोल, डीजल के 10 से 15 साल पुराने वा हनों पर नोएडा परिवहन विभाग ने कसा शिकंजा

नॉएडा – एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण के कारण उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने नॉएडा – गाज़ियाबाद में पेट्रोल, डीजल के 10 से 15 साल पुराने वाहनों पर बैन लगाया है जिसके कारण अब नॉएडा की सड़को पर पेट्रोल, डीजल के 10 से 15 साल पुराने वाहन नहीं चलेंगे। और अगर सड़को पर पुराने वहां चलते हुए नजर आते है

नोएडा परिवहन विभाग इन पर सख्त करवाई करके वाहन सीज़ करने के भी आदेश दिए है।

जिसमें उसने राष्ट्रीय राजधानी से सटे क्षेत्र नोएडा में 10 से 15 साल तक के पुराने डीजल वाहनों का रजिस्ट्रेशन कैंसल करने को कहा गया है। यह कैंसिलेशन उसे एनजीटी ने भी आदेश का पालन करने को कहा है ,

अब आदेश मिलते ही नोएडा परिवहन विभाग बहुत जल्द 4 हजार वाहनों का रजिस्ट्रेशन कैंसल करने जा रहा है।

इसके बारे में संबधित विभाग का कहना है कि इन वाहनों के रजिस्ट्रेशन कैंसल करने के बाद इनके नंबरों को सार्वजनिक किया जाएंगा, जिसके बाद इनमें से यदि कोई भी रद्द वाहन नोएडा की सड़कों पर चलते हुए पाया गया तो, उस पर पेनल्टी लगाने के साथ- साथ उसे कब्जे कर लिया जाएगा बता दे कि इस कारवाई में यूपी के कई वाहन है,जो 10 से 15 साल से भी ज्यादा पुराने हो गए है, जिनमें 16 ए, बी, सी व अन्य कई सीरीज हैं । जो एनजीटी के अनुसार प्रदूषण का कारण बन रहे है। उन पर अब प्रदूषण कंट्रोल करने के लिए एनजीटी के तहत कड़ी कारवाई की जाएगी, जिसके लिए परिवहन विभाग ने करीब 4 हजार वाहनों की सूची तैयार की है।

इस बारे में , परिवहन विभाग के एआरटीओ (प्रशासन) ए. के. पांडे ने कहा कि करीब सप्ताह भर में इन वाहनों का रजिस्ट्रेशन कैंसल कर दिया जाएगा। इसके बाद इस लिस्ट को सार्वजनिक करके इन वाहनों को सीज करने का अभियान चलाया जाएगा। इसके अलावा 10 साल पुराने डीजल के वाहन और 15 साल पुराने पेट्रोल व सीएनजी के स्वामियों को इन वाहनों का स्टेटस बताने के लिए सर्कुलर भेजा गया है। इससे विभाग को इसका संज्ञान रहे कि कौन से वाहन हैं, जो पहले से ही चलने बंद हो गए हैं। जिसके बाद इस लिस्ट को अपडेट किया जाएगा। और उसके बाद जो भी वाहन सड़क पर चलते पाए जाएंगे, उन पर पेनल्टी लगाने के साथ ही उन्हें सीज किया जाएगा। अब देखना है की एनजीटी और प्रदेश सरकार की यह कवायद कितनो दिनों तक नॉएडा परिवहन विभाग इस आदेश का पालन करता है।

( जितेंदर पाल – ten news )

21/11 / 17

नॉएडा : फर्जी ऑनलाइन कम्पनी का पुलिस ने किय ा पर्दाफाश , आरोपी युवक गिरफ्तार

नॉएडा – ऑनलाइन के जरिये सस्ते सामान का ऑफर देकर लोगो को ठगने वाले युवक को ठगी के आरोप में थाना 20 पुलिस ने गिरफ्तार किया।
आरोपी युवक दिल्ली यूनिवर्सिटी में बीए सेकंड ईयर का छात्र है। और उसने ऑनलाइन के जरिये एक फर्जी कम्पनी बनाई। फिर उसने ऑनलाइन पर लोगो को सस्ते का लालच देकर पैसे ऐठता था आरोपी युवक केवल एनसीआर से बहार के लोगो को निशाना बनाता था। उसने फर्जी कंपनी खोलकर 2 महीने में सैकड़ों लोगों से ठगी की। वह एनसीआर के बाहर के लोगों को निशाना बनाता था। थाना 20 की पुलिस को काफी दिनों से ऑनलाइन फर्जीवाड़े के बारे में शिकायत मिल रही थी। जिसके के आधार पर पुलिस ने कंपनी पर छापा मारकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने छापेमारी के दौरान 1.10 लाख रुपये, 14 कंप्यूटर, 14 इंटरकॉम टेलिफेान समेत अन्य सामान बरामद किए हैं।

A guy arrested for operating an fake call centre

A 21-year-old guy was nabbed on Sunday for allegedly operating a fake call centre and cheating people of lakhs of rupees on the pretext of offering shopping discounts.

Police got a tip-off about him that he is operating a fake call centre with name of Amazon shopping. As per the information police raided his house in Block E of sector 3 on Sunday evening and nabbed him. He was latter identified as Pawan Mishra. For the past three months. He had roped in 15 people, mostly women, to make calls to people outside DelHI-NCR, the police said. While Mishra was arrested, all the employees were let off.

“The callers were questioned about the call centre’s operations, but they did not know the motive behind it. They were given jobs from ₹8,000 to ₹12,000 a month,” Sector 20 station house officer Anil Kumar Shahi said. Shahi said the accused would procure database from the market. “There are many touts who sell customers’ data for anything between ₹20,000 and ₹50,000. Such database helps callers to lure customers by offering discounts on electronic goods, such as television and mobile phones,” he said.

“They were operating a call centre by the name Amazon Shopping. They would lure customers with offers and get money transferred in e-wallets; later Mishra would discard the SIM cards. We had done a recovery ₹1 lakh in cash, 14 desktops, laptops and phones,” Shahi said. Mishra is a student of the Delhi University and has completed his first year BA. The police said Mishra came from Bihar a year ago and started living in Jaitpur area of Badapur, Delhi. He worked at a call centre in Sector 4.