नोएडा में अब जिला अस्पतालो में मरीजों को परेशान नहीं होना पड़ेगा , खासतौर से महिलाओ को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक नयी योजना की शुरुआत की है.

उत्तर प्रदेश सरकार ने फैसला किया है की अगर सरकारी डॉक्टर छुट्टी पर होते है तो उनकी जगह प्राइवेट डॉक्टर मरीजों का उपचार करेँगे और जो भी उनका महेनताना होगा वो दिया जायेगा।

इस सुविधा के शुरू हो जाने के बाद अब जिले की गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए डॉक्टर का इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

अगर सरकारी डॉक्टर छुट्टी पर हैं तो स्वास्थ्य विभाग प्राइवेट डॉक्टरों को बुलाकर महिला का प्रसव कराएगा। इस पर आने वाले खर्च का वहन भी स्वास्थ्य विभाग करेगा। एक गर्भवती का ऑपरेशन यदि प्राइवेट डॉक्टर करते हैं तो इसके लिए उन्हें आठ हजार रुपये प्रति ऑपरेशन की दर से शुल्क दिया जाएगा।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनुराग भार्गव ने बताया कि गर्भवतियों का प्रसव कराने के दौरान कई बार डॉक्टरों की अनुपस्थित से परेशानी पैदा हो जाती थी। अब ऐसा नहीं होने पाएगा, क्योंकि एक महिला रोग विशेषज्ञ एवं एक एनेस्थीसिया स्पेशलिस्ट के साथ एमओयू कर लिया गया है। प्रति गर्भवती महिला के ऑपरेशन पर महिला डॉक्टर को 4500 व एनेस्थीसिया स्पेशलिस्ट को 3500 रुपये की धनराशि दी जाएगी। स्वास्थ्य विभाग को जब जरूरत होगी, तब इन्हें फोन करके बुलाया जाएगा, ताकि गर्भवतियों को किसी तरह की मुश्किल का सामना नहीं करना पड़े।