Daily Archive: June 22, 2017

छेड़छाड़ के विरोध पर किशोरी को छत से फेंकन े के दो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

नोएडा – मोरना गांव में छेड़छाड़ के विरोध में किशोरी को पहली मंजिल से फेंकने के मामले में पुलिस दो युवकों को थाना सेक्टर-24 पुलिस ने सिटी सेंटर के पास से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। दोनों की पहचान टीकम राघव और रोहित राघव निवासी चीमनपुर, चंडौस अलीगढ़ के रूप में की है वहीं घटना के बाद से कोमा में किशोरी की हालत गंभीर है। उसे नाक के रास्ते तरल खाद्य पदार्थ दिया जा रहा है। हैरानी की बात यह है कि पुलिस ने जिन दो युवकों को गिरफ्तार किया है। उन्होंने ऐसा क्यों किया इस बारे में पुलिस अब तक उनसे इसका कारण उगलवा नहीं सकी है। वहीं गिरफ्तारी के बाद फेंके जाने के कारण का खुलासा न होने पर पुलिस पर भी सवाल उठ रहे हैं।

मालूम हो कि समस्तीपुर बिहार का रहने वाला परिवार मोरना गांव में पिछले 20 साल से परिवार के साथ किराये पर रहता है। परिवार में पति पत्नी के अलावा तीन बेटी और तीन बेटे हैं। पीड़ित पिता इलेक्ट्रॉनिक की दुकान चलाते हैं। उन्होंने बताया कि बीती 19 मई की रात परिवार के साथ दूसरी मंजिल पर सो रहे थे। उनकी 17 वर्षीय बड़ी बेटी रात 12.20 बजे बाथरूम करने के लिए गई थी। वह रात 1.00 बजे घर के सामने सीढिय़ों के पास घायल अवस्था में मिली। उन्होंने नोएडा और दिल्ली के कई अस्पतालों में इलाज कराया।

सीसीटीवी कैमरे से हुआ था खुलासा: परिवार को लगा कि बेटी का पैर फिसल कर गिर गई है लेकिन जब 14 जून को उन्होंने सामने के घर में लगे सीसीटीवी फुटेज देखा दो उन्हें पता चला कि टीकम और रोहित ने उनके बेटी को पहली मंजिल से फेंक दिया था। उन्होंने कोतवाली सेक्टर-24 में दोनों के खिलाफ मामले की एफआईआर दर्ज कराई। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। कर्ज लेकर हो रहा है इलाज: किशोरी के परिजन कर्ज लेकर बेटी की दवा करा रहे हैं। अभी तक बेटी के इलाज में 8.50 लाख रुपये खर्च हो चुके हैं। परिवार की स्थिति यह है कि अब उनके पास खाने के लिए भी रुपये नहीं हैं। पीड़ित पिता ने बताया कि उनके दो अन्य बेटी और तीन बेटे हैं।

12वीं रिजल्ट के बाद विश्वविद्यालयों में एड मिशन के लिए छात्रों की जोर आजमाइश जारी

नोएडा. 12वीं के रिजल्ट आने के बाद दिल्ली से लेकर यूपी के सभी विश्वविद्यालय और कॉलेजों में एडमिशन की दौड़ शुरू हो गई है। इसी चरण में चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय (सीसीएसयू) के नोएडा स्थित राजकीय डिग्री कॉलेज में गुरुवार से ऑनलाइन आवेदन शुरू हो गया है। सीसीएसयू से संबंधित राजकीय डिग्री कॉलेज में एडमिशन लेने के इच्छुक छात्र गुरुवार यानी 22-6-2017 से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। सुबह 10:00 बजे से विश्वविद्यालय द्वारा दाखिले के लिए जारी की गई सभी साइट को खोल दिया गया है। इसमें यूजी और पीजी कोर्स के लिए सरकारी सहायता प्राप्त और निजी कॉलेजों में दाखिले की प्रक्रिया शुरू होगी। दाखिला लेने के इच्छुक छात्र इन साइटों पर 7 जुलाई तक आवेदन कर सकते हैं।
> इस बार सीसीएसयू में कम आवेदन होने की है संभावना
> आपको बता दें कि इस वर्ष जिले के डिग्री कॉलेज में कम संख्या में पंजीकरण होने की संभावना है। इसका कारण कॉलेज में एडमिशन से संबंधित नियमों में विश्वविद्यालय द्वारा बदलाव करना भी है। इस बार आधार कार्ड और अन्य जरूरी दस्तावेजों के होने पर ही छात्र ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आपको बता दें कि आधार कार्ड नहीं होने पर छात्र एडमिशन के लिए आवेदन नहीं कर सकेंगे।
> इस बार नहीं होगा ऑफलाइन आवेदन
> डिग्री कॉलेज के प्रोफेसर आरके गुप्ता ने बताया कि इस बार यूजी और पीजी कोर्स के छात्रों को ऑनलाइन ही आवेदन करना होगा। इस बार ऑफलाइन आवेदन नहीं होंगे। सीसीएसयू द्वारा जारी की गई साइट पर ही छात्र दाखिले के लिए अपने सभी दस्तावेजों के साथ आवेदन करें।
> 15 जुलाई से कॉलेज में लगेगी लिस्ट
> प्रोफेसर ने बताया कि 7 जुलाई दाखिला लेने के लिए आवेदन की अंतिम तिथि है। इसके बाद कॉलेज में दाखिले की प्रक्रिया शुरू होगी। जिसमें अंकों के आधार पर कॉलेज में छात्रों को एडमिशन दिया जाएगा। पहली लिस्ट 15 जुलाई को लगाई जाएगी। प्रोफेसर गुप्ता के मुताबिक गुरुवार सुबह से यूजी कोर्स के लिए ऑनलाइन पंजीकरण शुरू हो गए हैं। पीजी कोर्स के लिए शाम तक पंजीकरण शुरू हो जाएंगे।

तांत्रिक के ठिकाने पर छापा मार वनविभाग ने बरामद किए प्रतिबंधित वन्यजीव वस्तु

नोएडा. वन विभाग की टीम ने नोएडा के पॉश मार्केट सेक्टर-18 में एक ज्योतिषाचार्य के ऑफिस पर छापेमारी की। इस छापेमारी में भारी मात्रा में प्रतिबंधित जीव-जंतुओं से बनी सामग्री बरामद की गई है। बताया जाता है कि इनका उपयोग तांत्रिक काला जादू, इंद्रजाल व अन्य तंत्र मंत्र विद्या में किया जाता था। वन विभाग के अधिकारियों का दावा है कि ज्योतिषाचार्य के ऑफिस में मिले दस्तावेज व कम्प्यूटरों में दर्ज ब्यौरे से अन्तर्राष्ट्रीय वन्य जीव तस्करी करने वाले रैकेट से ज्योतिषाचार्य के तार जुड़ रहे हैं। वहीं, विभाग ने आशंका जाहिर की है कि पिछले दिनों मेरठ में वन्य जीवों की तस्करी व अवैध पिस्टलों की तस्करी के आरोप में पकड़े गए पूर्व कर्नल व उसके बेटे के रैकेट से भी तांत्रिक के तार जुड़े हो सकते हैं। इसकी छानबीन की भी की जा रही है। छापेमारी के दौरान वन विभाग की टीम ने ज्योषिताचार्य को भी पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है।
>
> काला जादू, इंद्राजाल में इस्तेमाल की आशंका
> जानकारी के मुताबिक सेक्टर-18 में वन विभाग की टीम ने थाना सेक्टर-20 पुलिस की मदद से अंसल फॉर्च्यून आर्केड बिल्डिंग में स्थित एस्ट्रो देवम नाम के ज्योतिषाचार्य के ऑफिस पर छापेमारी की। इसके मालिक ज्योतिषाचार्य कल्लीकृष्णन है। वन विभाग की टीम ने बेसमेंट व प्रथम तल स्थित ऑफिस पर छापेमारी कर वहां से प्रतिबंधित समुद्री जीव व अन्य जीव जंतुओं से बनी वस्तुओं व अन्य सामग्री जब्त की है। शंका है कि इसका प्रयोग तांत्रिक काला जादू, इंद्राजाल व तंत्र-मंत्र में करता होगा।
> ज्योतिष और कर्मचारियों से शुरू की पूछताछ
> वन विभाग ने ऑफिस में मौजूद कर्मचारी व ज्योतिषाचार्य को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया। इसके बाद दोनों ऑफिस की गहनता से छानबीन की। ऑफिस में मिली डायरी, आठ कम्यूटरों के डाटा चेक किए, जिसमें देश व विदेश से डील किए जाने वाले लोगों के नंबर मिले हैं। छापेमारी के दौरान मौजूद डीएफओ एचबी गिरीश ने बताया कि सूचना के आधार पर कार्रवाई की गई है। आशंका है कि जांच के बाद एक बड़े अन्तर्राष्ट्रीय रैकेट का खुलासा होगा। वहीं, छापेमारी के बाद पता चला कि ज्योतिषाचार्य लोगों को वास्तु ज्ञान, जन्मकुंडली, रत्न, रूद्राक्ष व तंत्र मंत्र के लिए प्रतिबंधित साम्रगी भी देते थे।