Daily Archive: March 5, 2017

संत नीरज कृष्ण महाराज ने कृष्ण की बाल लीला ओं के बारे श्रद्धालु को बताया

सनातन धर्म मन्दिर, सैक्टर – 19 नोएडा में चल रही श्रीमदभागवत कथा के पांचवें दिन पर राष्ट्रिय संत नीरज कृष्ण महाराज ने कृष्ण की बाल लीलाओं के उपरान्त गिरिराज पूजन बड़े उल्हास व उत्साह से किया गया ! जब ब्रिज गोपियाँ पूजन के समय अपने थालों को सजा कर कृष्ण बलराम के साथ गिरिराज पूजन को गई उस समय की छठा सब के मन को आकर्षित कर रही थी ! सभी ने बड़े आन्नद से गिरिराज महाराज का पूजन किया ! नाचते गाते जयकारे लगाते हुए गिरिराज जी की परिक्रमा की ! जब इंद्र को पता लगा की श्रीकृष्ण के बहकावे में आकर ब्रिजवासियों ने मेरा पूजन बंद करके गिरिराज पर्वत को पूजा है ! यह जानकार इंद्र ने प्रलय करने वाले मेघों को ब्रिज को नस्ट करने का हुक्म दिया ! श्रीकृष्ण ने गिरिराज पर्वत को अपने नख पर उठालिया ! ब्रिजवासी सब गिरिराज पर्वत के निचे आगये ! सुदर्शन चक्र ने सारे जल को शोषित कर लिया ! इस तरह से श्रीकृष्ण भगवान ने इन्द्र के घमण्ड को तोड़ा ! कथा वाचक नीरज कृष्ण महाराज ने बताया कि श्रीकृष्ण द्वारा जो भी लिलाएं की गई थी उनका उद्देश्य जीवन में सीख देना था।

आज के मुख्य गणमान्य लोगों में ओ पी बंसल, डॉ जी एस बंसल, के सी गुप्ता, आर पी माहेश्वरी, महेंद्र शाह, संजय बाली, पवन शर्मा, ओमप्रकास, बासुदेव बंसल, के एल बैद, सपना बंसल सहित कई गणमान्य लोग सामिल हुए।

संत नीरज कृष्ण महाराज ने कृष्ण की बाल लीला ओं के उपरान्त गिरिराज पूजन बड़े उल्हास व उत्स ाह से किया

सनातन धर्म मन्दिर, सैक्टर – 19 नोएडा में चल रही श्रीमदभागवत कथा के पांचवें दिन पर राष्ट्रिय संत नीरज कृष्ण महाराज ने कृष्ण की बाल लीलाओं के उपरान्त गिरिराज पूजन बड़े उल्हास व उत्साह से किया गया ! जब ब्रिज गोपियाँ पूजन के समय अपने थालों को सजा कर कृष्ण बलराम के साथ गिरिराज पूजन को गई उस समय की छठा सब के मन को आकर्षित कर रही थी ! सभी ने बड़े आन्नद से गिरिराज महाराज का पूजन किया ! नाचते गाते जयकारे लगाते हुए गिरिराज जी की परिक्रमा की ! जब इंद्र को पता लगा की श्रीकृष्ण के बहकावे में आकर ब्रिजवासियों ने मेरा पूजन बंद करके गिरिराज पर्वत को पूजा है ! यह जानकार इंद्र ने प्रलय करने वाले मेघों को ब्रिज को नस्ट करने का हुक्म दिया ! श्रीकृष्ण ने गिरिराज पर्वत को अपने नख पर उठालिया ! ब्रिजवासी सब गिरिराज पर्वत के निचे आगये ! सुदर्शन चक्र ने सारे जल को शोषित कर लिया ! इस तरह से श्रीकृष्ण भगवान ने इन्द्र के घमण्ड को तोड़ा ! कथा वाचक नीरज कृष्ण महाराज ने बताया कि श्रीकृष्ण द्वारा जो भी लिलाएं की गई थी उनका उद्देश्य जीवन में सीख देना था।

आज के मुख्य गणमान्य लोगों में ओ पी बंसल, डॉ जी एस बंसल, के सी गुप्ता, आर पी माहेश्वरी, महेंद्र शाह, संजय बाली, पवन शर्मा, ओमप्रकास, बासुदेव बंसल, के एल बैद, सपना बंसल सहित कई गणमान्य लोग सामिल हुए।

जीएसटी लागू करने में वित्त मंत्री अरुण जे टली की भूमिका को कैट ने सराहा

जीएसटी कॉउन्सिल द्वारा सर्वसम्मति से सीजीएसटी एवं आईजीएसटी कानून के प्रारूप पारित करने पर कंफेडेरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीअरुण जेटली की प्रशंसा करते हुए कहा है की इस महत्वपूर्ण कदम से देश में अब जीएसटी लागू करने का मार्ग पूरी तरह साफ़ हो गया है !इसी बीच कैट ने केंद्रीय वित्त मंत्रीसे आग्रह किया है की संसद में यह बिल रखने से पूर्व सरकार व्यापारियों को भी विश्वास में ले ! कैट ने कहा है की जीएसटी एक गंतव्य आधारित कर प्रणाली है औरजीएसटी के अंतिम गंतव्य उपभोक्ता के साथ सीधा एवं अंतिम संपर्क व्यापारियों का ही होता है इस दृष्टि से व्यापारियों के साथ संवाद इस कानून को देश भर में सरलता केसाथ लागू करने में महत्वपूर्ण होगा और जीएसटी को राजस्व एकत्र करने में एक सफल मॉडल बनाएगा !

हालाकिं कैट देश में जल्द जीएसटी लागू करने का पक्षधर है किन्तु कैट ने केंद्र सरकार से आग्रह किया है की इस कानून की बारीकियों को समझने एवं इसे अपने वर्तमानव्यापारिक मॉडल में आवश्यक बदलाव करने हेतु व्यापारियों को कुछ वक्त दिया जाना जरूरी है ! जीएसटी विशूद्द रूप से टेक्नोलॉजी पर आधारित एक कर प्रणाली हैजिसका पालन केवल ऑनलाइन माध्यम से ही किया जाना तय है और उधर दूसरी तरफ यह भी सच है की देश में लगभग 70 % छोटे व्यवसायिओं को अभी भी अपनेवर्तमान व्यापारिक ढांचे को कंप्यूटरीकृत करना शेष है, इस वजह से 1 जुलाई 2017 की तारीख को कुछ समय के लिए आगे बढ़ाया जाए और इसी बीच सरकार व्यापारिकसंगठनों के सहयोग से बड़े पैमाने पर देश भर में जीएसटी को लेकर एक राष्ट्रीय जागरूकता अभियान चलाये ! कैट इसमें सरकार का पूरा सहयोग करेगी ! हालाकिं कैट नेदेश में अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर की बड़ी कंपनी टैली सॉल्यूशंस लिमिटेड के साथ मिलकर पहले से ही जीएसटी के मुद्दे पर एक राष्ट्रीय अभियान चलाया हुआ है लेकिन सरकारयदि सहयोग करती है तो जल्द ही यह अभियान देश के कोने कोने में पहुँच सकता है !

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा की जीएसटी कानून के कुछ प्रस्तावित प्रावधान व्यापारियों के लिए कुछपरेशानियां कड़ी कर सकते हैं और जिन पर एक बार दोबारा विचार करने की जरूरत है जिससे कर की पालना करने वाले व्यापारियों को दूसरे किसी व्यक्ति की लापरवाहीका दंड न भुगतना न पड़े ! इसी क्रम में इनपुट क्रेडिट एक बड़ा मुद्दा है जिसमें माल खरीदने वाले व्यक्ति को इनपुट क्रेडिट जभी मिलेगा जब माल बेचने वाला व्यक्ति करजमा कर दे ! यह प्रावधान बेहद अस्पष्ट है और किसी एक व्यक्ति की गलती या लापरवाही की सजा उस व्यक्ति को मिलेगी जो कर की पालना कर रहा है जिससे करपालना हतोत्साहित होगी ! उन्होंने कहा की सरकार को निश्चित रूप से कर वंचना करने वालों को दण्डित करने का अधिकार है और जीएसटी के प्रावधानों के मुताबिक हरव्यक्ति को जीएसटी नेटवर्क से अपना पंजीकरण करना होगा और अपनी बिक्री की हर जानकारी नेटवर्क को देनी होगी जिसके चलते जिस व्यक्ति ने कर लिया है उसे करजमा करना अनिवार्य होगा, ऐसे में जो जब माल खरीदने वाला माल बेचने वाले को कर दे ही चूका है तो यदि माल बेचने वाला कर न जमा कराये तो खरीदने वाले को दण्डितक्यों किया जाए ! यह प्रावधान एक तरीके इसे अन्यायपूर्ण है !

कैट ने सरकार को सुझाव दिया है की इनपुट क्रेडिट को वैध रिटर्न से न जोड़ा जाए !वैध रिटर्न वो हो जिसमें कर पूरे तौर पर लिया गया है एवं जो कर लेने वाले कीजिम्मेदारी तय करता है ! इस दृष्टि से इनपुट क्रेडिट प्राप्त करने के लिए वैध रिटर्न को आधार बनाया जाये न की कर जमा करने को ! यदि इस सुझाव को स्वीकार कियाजाता है तो यह व्यापारियों को एक बड़ी परेशानी से बचाएगा और कर पालना को मजबूत करेगा तथा कर वंचना को रोकेगा !

कैट ने यह भी कहा है की अंतरराज्यीय व्यापार में ई परमिट लागू करना सारे देश को एक मंडी – एक कर बनाने के सिद्धांत के विरुद्ध होगा ! जब सभी व्यक्ति सीधे जीएसटीनेटवर्क पर पंजीकृत है और हर व्यक्ति हर गतिविधि सरकार की निगाहों में है , ऐसे में ई परमिट की कोई आवश्यकता नहीं है ! जीएसटी में इस प्रावधान को न रखा जाए,यह आग्रह भी कैट ने किया है !

NOIDA ABOUT 90 SLUMS BURNT TO ASHES, HOUSE GOODS WORTH LAKHS DESTROYED

नोएडा में देर रात उस वक्त हड़कंप मच गया जब नोएडा सेक्टर 137 स्थित कई झुग्गियों में अचानक आग लग गई है जिसके बाद एक के बाद एक वहां पर मौजूद करीब 89 झुग्गियों में आग लग गई जिससे वहां रहने वाले लोगों में हड़कंप मच गया आग लगने से जान का को कोई नुकसान नहीं हुआ लेकिन इन झुग्गियों में रहने वाले गरीब लोगों की सारा सामान जलकर खाक हो गया पुलिस ने और फायर ब्रिगेड ने रात में ही कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पायाजिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर नागेंद्र प्रसाद सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि सेक्टर 137 में ग्राम शाहदरा मे झुग्गी झोपड़ी में लगी आग से हुई 89 परिवारों को हानि हुई है इन सभी परिवारों को शासन अहेतुक योजना से आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी। जिलाधिकारी श्री सिंह ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि सेक्टर 137 की आग की घटना के बारे में जानकारी प्राप्त होने पर उप जिलाधिकारी सदर राजेश कुमार सिंह एवं तहसील टीम को मौके पर भेजकर स्थलीय निरीक्षण कराते हुए सत्यापन कराया गया है जिसमें यह तथ्य प्रकाश में आया है कि आगजनी की घटना में 89 परिवारों को हानि हुई है सभी परिवारों को शासन की दैवीय आपदा के तहत सहायता योजना से आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी ।