पिछले दो सप्ताह से जारी रोज कैंडल मार्च और आवासीय परिसर में जारी विरोध प्रदर्शन के बाद अंतरिक्ष ग्रुप के दो डायरेक्टर राकेश यादव और हरेंद्र यादव गोल्फ व्यू 1 के निवासियों औऱ खरीददारों से मिलने पहुंचे। पूर्व सूचना के अनुरूप सुबह नौ बजे से ही गोल्फ व्यू 1 के निवासी एम्फीथियेटर में एकत्र होने लग गए थे। बिल्डर समूह अपनी पूरी टीम लेकर आधा घन्टा देरी से पहुँचे ,वही दूसरी तरफ निवासियों ने धूप की परवाह नही की और डटे रहे। निवासियों ने अपनी समस्याओं की चिट्ठी बिंदुवार बिल्डर को सौंपी और क्रमशः समस्याओं के निवारण के लिए बिल्डर से अनुरोध किया।

वही इस मामले में निवासियों का कहना है की सबसे ज्वलंत मुद्दा कम्पलीशन औऱ ऑक्यूपेंसी का है। नोएडा अथॉरिटी बिल्डर को ओसी, सीसी देने के लिए तैयार है, पर उसके लिए बिल्डर को विभिन्न मदों के अंतर्गत ऑथोरिटी का कई सालों से लंबित बकाया चुकाना है। इस बीच वर्तमान सरकार, एनसीआर में बिल्डर्स को बहुत सारी छूट और सुविधाएं भी दे रही है, जिनका अंतरिक्ष ग्रुप हर मौके पर फायदा लेता रहा है, लेकिन बकाया जमा कराने के लिए बहाने बनाता रहता है। इस मीटिंग में सिर्फ ओसी औऱ सीसी के लिए ही चर्चा हुई। हर बार की तरह, बिल्डर नई तारीख देके मीटिंग बीच मे ही छोड़ के भाग गया।

ओसी, सीसी के अभाव में रजिस्ट्री भी नही हुई है। बिल्डर द्वारा अपूर्ण प्रोजेक्ट में कब्जा देकर निवासियो से अवैध और मनमाना रख रखाव शुल्क वसूला जा रहा है। निवासी अवैध निर्माण को लेकर भी चिंतित हैं। अथॉरिटी ने सर्वे कर बहुत सी अनियमितताएं पायीं थी, अवैध निर्माण भी पाया था, किन्तु ऑथोरिटी की तरफ से कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। नोएडा प्राधिकरण के प्लानिंग विभाग की बिल्डर के साथ संलिप्तता का भी संदेह है। वर्तमान खरीददारों या निवासियों ने बिल्डर को किसी भी तरह की स्वीकृति नही दी है। बिल्डर डरा धमका कर खरीददारों से एक एफिडेविट पर हस्ताक्षर करवा रहा है जिससे वो अवैध निर्माण का नियमन करवा सके। प्राधिकरण से अनुरोध कर प्लानिंग विभाग की गैर कानूनी गतिविधियों पर नकेल कसने की भी मांग की गई है। आज की मीटिंग एवं शांति पूर्ण विरोध यात्रा में नगर पुलिस ने निवासियों की सुरक्षा का इंतेज़ाम किया प्रदर्शन करने वालों में ब्रजेश कुमार, निखिल, शरद, आशीष, कन्हैया, आलोक, अनमोल, रेखा, रंजना, रचना आदि निवासियों ने महिलाओं व बच्चों के साथ हिस्सा लिया ।