Monthly Archive: January 2018

Noida Authority CEO, ACEO Inspect Sector-18 Parking, Sector 94 Underpass today!

(03/01/2018) Noida :

Noida Authority Chairman and CEO Alok Tandon, ACEO RK Mishra and other senior officials today conducted inspection of different ongoing projects in Noida. They inspected Sector-18 Multilevel Parking, Yamuna Bridge, Sector 94 Under Pass etc.


The senior officials took stock of development work on these projects and discussed different aspects of the same with concerned project engineers. Noida Sector 18 parking is expected to be Inaugurated on January 24

नॉएडा : कारोबारी के बैंक खाते से हैकर्स ने निकाले 50. 000 हज़ार रुपये

नॉएडा :एक व्यापारी के बैंक खाते से 50. 000 हज़ार रुपये निकलने का मामला सामने आया है ,सीमेंट व्यापारी अमित जैन के बैंक खाते से हैकर्स ने 50 हजार रुपये निकाल लिए। सबसे चौकाने वाली बात है कि उनका डेबिट कार्ड उनकी जेब में था। जैसे ही उनके मोबाइल पर मैसेज आया , अमित ने मामले की शिकायत सेक्टर-20 पुलिस से की है। पुलिस के अनुसार, मूलरूप से गुरुग्राम निवासी अमित जैन सेक्टर-118 में रहते हैं। बीते रविवार को सेक्टर-18 के डीएलएफ मॉल में नए साल का जश्न मनाने आए थे। इसी दौरान उनके मोबाइल फोन पर खाते से 50 हजार रुपये निकलने का मैसेज आया। उनका डेबिट कार्ड उनकी जेब में था। उन्होंने तुरंत बैंक में फोन करके डेबिट कार्ड ब्लॉक कराया। साथ ही मामले की शिकायत बैंक मैनेजर और कोतवाली सेक्टर 20 पुलिस से की है

नॉएडा : युवतियों को नए साल का जश्न पड़ा मंहग ा ,बदमाश पर्स छीनकर भागे

नोएडा : नए साल का जश्न दो युवतियों को महंगा पड़ गया , नए साल की पार्टी मनाकर अपने घर लौट रही थी , तभी पीछे से बाइक सवार बदमाशों ने युवतियों से पर्स लूटकर फरार हो गए ,हलाकि नशे में होने के चलते युवतियां रात में घर चली गईं। उन्होंने सोमवार को सेक्टर-20 पुलिस स्टेशन आकर मामले की शिकायत की। शिकायत के आधार पर पुलिस बदमाशों की तलाश कर रही है। पुलिस के मुताबिक, युवतियां मूलरूप से मणिपुर की रहने वाली हैं और न्यू अशोक नगर में किराये पर रहती हैं। वह यहां सेक्टर-18 में एक स्पा में काम करती हैं। रविवार रात को दोनों करीब एक बजे नए साल की पार्टी करके सेक्टर-18 से शराब के नशे में पैदल ही घर लौट रही थीं। सेक्टर-2 के पास पहुंचने पर बाइक सवार बदमाश आए। इनमें से एक बाइक से उतरकर उनके पास आया और दोनों से पर्स छीनकर बाइक में बैठकर दिल्ली की तरफ भाग गए। उन्होंने बताया है कि उन दोनों ने शराब पी हुई थी। दोनों के बैग में तीन हजार रुपये, दो मोबाइल फोन व अन्य सामान रखे हुए थे।

नॉएडा : सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 2 लाख र ुपये ठगे

नॉएडा : सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 2 लाख रुपये ठग कर फरार हो गया। आरोपी शख्स ने पीड़ित को एक महीने में नौकरी लगने का झांसा दिया था। इसके बाद वह कमरा खाली करके चंपत हो गया। मामला थाना सेक्टर-39 के छलेरा गांव का है पीड़ित ने पुलिस से शिकायत की है। पुलिस के अनुसार, मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले साकेत ठाकुर छलेरा में किराये पर रहते हैं। वह ग्रेटर नोएडा में एक कंपनी में काम करते हैं। उनके पड़ोस में जसवीर मौर्या किराये पर रहता था। वह फेज-2 की एक कंपनी में काम करता था। उसने उन्हें एक महीने पहले रेलवे में सरकारी नौकरी लगवाने का लालच दिया। जिसके एवज में दो लाख रुपये खर्चे की बात कही।पीड़ित युवक उसकी बातों में आकर जसवीर मौर्या को दो लाख रुपये दे दिए। पीड़ित इसके बाद बीते 12 दिसंबर को जरूरी काम से वह अपने गांव गए थे। 27 दिसंबर को लौटने पर उन्हें जसवीर का कमरा बंद मिला। इसके बाद वह उसे फोन करते रहे, लेकिन फोन भी बंद आया। इसके बाद साकेत ने सेक्टर-39 पुलिस से मामले की शिकायत की है।

नॉएडा : पुलिस ने नए साल पर हुड़दंग करने वाले 2 3 लोगो किया गिरफ्तार

नॉएडा : नए साल पर जश्न के दौरान कही शांति भंग ना हो जाये , इसलिए पुलिस प्रशासन भी इस बार काफी चौकस था पुलिस ने रेस्टोरेंट व् माल्स के पास अपनी पीसीआर वैन तैनात कर रखी थी ताकि हुड़दंग करने वाली लोगो पर नकेल कसी जा सके। लेकिन फिर भी हुड़दंग करने वाले लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं आये ,तो पुलिस ने करवाई करते हुए नए साल के जश्न में हुड़दंग करने के आरोप में पुलिस ने शहर में अलग-अलग जगहों पर 23 लोगों को गिरफ्तार किया है। एसपी सिटी अरुण कुमार सिंह ने बताया कि कई जगह नए साल की पार्टियां होने से पुख्ता बंदोबस्त किए गए थे। शराब पीकर हुड़दंग करने के आरोप में 23 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। इनमें 14 लोग फेज-3 इलाके में हुड़दंग करते, झगड़ा करते या फिर शांति भंग करने के आरोप में पकड़े गए हैं। वहीं, सेक्टर-20 में 7 और सेक्टर-39 में दो युवकों को गिरफ्तार किया गया है। टीआई लायक सिंह के अनुसार न्यू ईयर के जश्न के दौरान करीब एक दर्जन वाहन चालकों को शराब पीकर गाड़ी चलाने पर चालान किया गया है

नॉएडा : दोनों पक्षों में जमकर चले लाठी डंडे, महिला का टुटा हाथ

नॉएडा : जहा एक तरफ नए साल के स्वागत में लोग जश्न मानाने में लगे थे तो वही दूसरी तरफ सेक्टर-35 मोरना गांव में रविवार रात दो पक्षों में लाठी डंडे चल रहे थे। घटना थाना 24 की है। इस मारपीट में एक महिला का हाथ टूट गया और उसकी बेटी के चेहरे पर गंभीर चोट आई है। दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ सेक्टर-24 पुलिस से शिकायत की है।पुलिस के अनुसार, गीता नाम की एक महिला परिवार समेत मोरना में रहती है। उनके सामने ही विनोद का परिवार रहता है। महिला के मुताबिक, रविवार रात को उनके घर में एक कुत्ता घुस आया। उसने कुत्ते को बाहर निकाल दिया। इस बात पर विनोद उनसे झगड़ा करने लगा। विनोद का कहना है कि महिला ने कुत्ते के बहाने उन्हें अभद्र शब्द कहे हैं। इसके बाद दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई। इसके बाद दोनों पक्ष लाठी डंडों के साथ भिड़ गए। इसमें गीता का हाथ टूट गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को अस्पताल में भर्ती करवाया। पुलिस के अनुसार दोनों पक्षों की तरफ से मामले की शिकायत की गई है, जिसके आधार पर मामले की जांच की जा रही है

नॉएडा : नए साल का पहला दिन लोगो के लिए ट्रैफ िक जाम की लेकर आया सौगात

नॉएडा : नए साल का पहला दिन लोगो के लिए ट्रैफिक जाम की सौगात लेकर आया। जहा सुबह से लोग नववर्ष पर एन्जॉय करने में लगे थे तो वही शाम होते होते सडको पर जाम लगने की कवायद शुरू हो गयी जो देर रात तक जाम का सिलसिला बना रहा। जब लोग घर लौटने लगे। मंगलवार को सेक्टर-18 और उसके आसपास लोगों को जाम से जूझना पड़ा। सबसे बुरी स्थिति महामाया फ्लाइओवर, डीएनडी फ्लाईवे, फिल्म सिटी फ्लाईओवर और सेक्टर-14ए नोएडा गेट के रूट पर रही। इस इलाके में 3 से 4 किमी लंबा जाम लग गया। नोएडा से ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे, डीएनडी और कालिंदीकुंज से सेक्टर-37 को जाने वाले रास्ते पर भी जाम लगा रहा। दोपहर बाद से ही जीआईपी मॉल के आसपास वाहन रेंगने शुरू हो गए। वहीं, सेक्टर- 27 और 18 के बीच मेट्रो स्टेशन के नीचे भी यही स्थिति रही। सेक्टर- 95 स्थित दलित प्रेरणा स्थल के पास पूरे दिन लोगों के आने-जाने से वाहनों की रफ्तार थमी रही।

कुरीतियों के खिलाफ लड़ती रहें भारतीय महिला एं।

लेख चन्द्रपाल प्रजापति नोएडा

हिन्दू धर्म में भी सती प्रथा, बाल विवाह, बहुविवाह जैसी कुरीतियां थीं, जो समाज में विघटन पैदा करने वाली थीं। 1871 में राजा राममोहन राय और लॉर्ड विलियम बेंटिक के संयुक्त प्रयासों से हिंदू समाज से सती प्रथा का अंत हुआ। इसे भारतीय दंड संहिता की धारा 306 (आत्महत्या के लिए उकसाना) के अंतर्गत रखा गया। धर्म के ठेकेदारों ने इस फैसले का बहुत विरोध किया, लेकिन बडी संख्या में महिलाओं ने इसे सराहा। 1958 में राजस्थान हाई कोर्ट ने तेज सिंह वाद में सती होने के लिए उकसाने वाले को पांच साल कठोर कारावास की सजा सुनाई। इसके बाद सरकार ने सती (निरोधक) कानून,1987 बनाकर इस कुरीति पर पूरी तरह से रोक लगा दी। इसके अलावा, हिन्दू धर्म में बाल विवाह और बहुविवाह पर 1956 में फेमिली एक्ट के तहत आधा दर्जन कानून लागू कर रोक लगा दी गई। इन कुप्रथाओं का अंत पंडितों, पुजारियों या धर्म के ठेकेदारों ने नहीं किया, बल्कि भारतीय संविधान के अंतर्गत बने कानूनों ने किया। इससे उनके छद्म स्वाभिमान को ठेस तो पहुंची, लेकिन जनता ने इसे खुले दिल से स्वीकार किया। हिन्दू विवाह को संस्कार माना गया है,
19वी सदी में उठायें गए महिला प्रश्नों से भारतीय समाज में महिलाओं के जीवन में कई ऐतिहासिक परिवर्तन आएं। इन परिवर्तनों में सर्वाधिक महत्वपूर्ण यह था कि महिलाओं का जीवन अब बदलने लगा था। कट्टर पितृसत्ता की जड़ों को अब धीरे धीरे ढीला किया जा रहा था जिससे भारतीय समाज को आधुनिकतावादी प्रस्तुत किया जा सकें। 19वी सदी के उत्तरार्द्ध में महिलाओं की स्थिति में सुधार हेतु ब्रिटिश शासन के साथ कई राष्ट्रवादी, समाजसुधारक, सुधारवादी समूह (संगठन) औपनिवेशिक भारत के लगभग सभी भागों में उभरने लगे थें। इन सभी ने सबसे पहले भारतीय समाज की कुरीतियों को खत्म करने के लिए सक्रियता दिखायी तथा सभी सुधारकों व संगठनों का ध्यान सती, बालविवाह, बहुविवाह, कन्यावध, पर्दाप्रथा तथा देवदासी जैसी कुरीतयों को खत्म करने पर व विधवा पुनर्विवाह, स्त्री शिक्षा शुरू करने पर था।
इसी कड़ी में तीन तलाक जैसे भेदभाव और शोषण के विरुद्ध कुछ महिलाओं ने हिम्मत दिखाई। इसके अच्छे परिणाम मिले। सर्वोच्च न्यायालय (लोकसभा में भी विधेयक पास हो गया है ) ने मुसलमानों में सदियों से चली आ रही उस तीन तलाक प्रथा पर रोक लगा दी है जो मुस्लिम महिलाओं के लिए कष्ट का कारण बनी हुई थी। तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) पर रोक के मायने हैं कि अब फोन, चिट्ठी, ई-मेल, व्हाट्सएप और एसएमएस जैसे तरीकों से तलाक देने पर रोक लगेगी।
मुस्लिम समाज की लड़कियों के शोषण पर देश के सेकुलर और तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग की खामोशी को क्या समझा जाए? दादरी कांड और अखलाक पर आकाश-पाताल एक करने वाले वामपंथी, सेकुलर दल और उनके स्वयंभू नेता इस मुद्दे पर मौन हैं। अरब देशों के कामुक शेखों द्वारा मासूम लड़कियों के देह शोषण और मानसिक वेदना के विरुद्ध आवाज उठाने वाला कोई है या नहीं? देश-दुनिया बदल रही है। ऐसे में ‘अरबी निकाह’ अर्थात मुताह जैसी कुप्रथा को समाप्त करने के लिए मुस्लिम समाज की महिलाओं को ही आगे आना होगा। देश के विकास में जितना योगदान पुरुषों का है, उतना ही महिलाओं का है। इसलिए महिलाओं के साथ सौतेला व्यवहार न हो।