Daily Archive: July 4, 2017

प्राधिकरण की लापरवाई से सेक्टर 18 की मार्क िट बनी अतिक्रमण का अड्डा

नोएडा – नॉएडा का दिल कहे जाने वाले सेक्टर 18 में प्राधिकरण ने सौंदर्यकरण के लिए करोडो रूपए खर्च कर दिए लेकिन अतिक्रमण जस का मस बना है इतना ही नहीं जिन लोगो ने यह दुकाने ले राखी है वे अब पछ्ता रहे है क्योकि करोडो रूपए खर्च कर उन्होंने जमीन ली है मगर कुछ ऐसे है जो सड़को पर ही दुकान बनाकर काम कर रहे है इस संबंध में प्राधिकरण अधिकारी सख्त रुख अपना रहे है। वर्क सर्किल 2 प्रभारी एससी मिश्रा का कहना है कि किसी भी सूरत में अतिक्रमण नहीं करने दिया जायेगा , खास बात यह है की यहां कुछ ऐसे माफिया सक्रिय है जो सड़को को फुटपाथों और पार्को को घेर कर पुलिस और प्राधिकरण से अपनी साठगांठ बनाते है और लोगो से रूपए वसूलते है और पुलिस प्रशासन व् प्रधिकरण आँख मूंद कर चुप बैठा रहता है।

डीएम आवास के पास बदमाशों ने व्यापारी से की लूटपाट

नोएडा – शहर की कानून व्यवस्था का क्या हाल है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि डीएम आवास से चंद कदमो की दुरी पर ही बदमाश सरेआम लूट की वारदात को अंजाम दे रहे है और खास बात ये है कि शाम होते ही दो तीन पीसीआर सुरक्षा के लिए कड़ी हो जाती है मिली जानकारी के अनुसार टाइल्स व्यापारी रमेश गोयल सेक्टर 9 से अपनी दुकान बंद करके घर लौट रहे थे तभी डीएम चौराहे से पुलिस कालोनी की तरफ मुड़े तभी बदमाशो ने उन्हें घेर कर उनसे बैग लूट लिया और हथियार लहराते हुए भाग निकले, रमेश गोयल के अनुसार बैग में 3 हज़ार रूपए नकद व् अन्य कागजात थे कोतवाली सेक्टर 20 प्रभारी अनिल कुमार शाही ने बताया कि शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर लिया है।

करोड़ों की लागत से बने कॉलेज में पहले दिन दर ी पर बैठे छात्र

नोएडा सेक्टर 51 में करोड़ों की लागत से तैयार राजकीय कन्या इंटर कॉलेज में सोमवार को पठन-पाठन शुरू हुआ। डेस्क-बेंच के अभाव में पहले दिन दरी पर बैठकर छात्राओं ने पढ़ाई की। कॉलेज प्रशासन का कहना है कि जल्द ही डेस्क-बेंच का इंतजाम कर लिया जाएगा। सेक्टर 51 होशियारपुर में इसी साल राजकीय कन्या इंटर कॉलेज बनकर तैयार हुआ है। शनिवार को कॉलेज का पहला सत्र शुरू हो गया था, लेकिन औपचारिक तौर पर सोमवार को पढ़ाई शुरू हुई। कॉलेज में डेस्क-बेंच की व्यवस्था न होने से पहले ही छात्राओं को फर्श पर बिछी दरी पर बैठकर पढ़ाई करनी पड़ी। प्रिंसिपल हेमलता शर्मा का कहना है कि डेस्क-बेंच की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए अथॉरिटी से बातचीत चल रही है। जब तक ये नहीं आ जाते हैं तब तक इसी तरह कक्षाएं लगेंगी। आनन-फानन आधी-अधूरी सुविधाओं के साथ शुरू हुए कॉलेज में शिक्षकों की भी कमी है। यहां कुल 15 पीजीटी शिक्षकों की जरूरत है, लेकिन अभी तक सिर्फ नौ शिक्षकों की नियुक्ति हो पाई है। शहर के निजी और सरकारी स्कूलों में सोमवार से औपचारिक तौर पर पठन-पाठन शुरू हो गया। प्राथमिक व जूनियर हाईस्कूल में पचास फीसद से ज्यादा उपस्थिति रही। वहीं निजी स्कूलों में 100 फीसद तक छात्र पहुंचे। कई स्कूलों के बाहर छुंट्टी के बाद ट्रैफिक रेंगता नजर आया।