Daily Archive: July 7, 2017

कैमरा गाड़ियों द्वारा होगा ट्रैफिक उल्लं घन पर चालान, नोएडा पुलिस की नई पहल

जनपद में दिनों-दिन बढ़ते हुए यातायात दबाव के सापेक्ष यातायात पुलिस की अल्प जनशक्ति से हमारे द्वारा जन सामान्य को सुगम यातायात प्रदान करने का प्रयास किया जा रहा है। जनपद में लगभग 400 चौराहे/तिराहे/गोलचक्कर अवस्थित हैं किन्तु उपलब्ध जनशक्ति से हम नोएडा में लगभग 55-58 स्थानों पर ही ड्यूटियां लगा पाते हैं, यहाँ यह भी ध्यातव्य है कि विभिन्न प्रकार के वाहन चालकों द्वारा यातायात नियमों का उल्लंघन करना भी दुर्घटना व् यातायात की समस्या का एक प्रमुख कारण है हमारे कर्मचारीगण अपने-2 ड्यूटी स्थल पर नित यातायात उल्लंघनकर्ताओं के चालान भी करते हैं किन्तु सुगम यातायात प्रदान करने की प्राथमिकता के कारण उल्लंघनकर्ताओं के प्रति प्रभावी कार्यवाही नहीं हो पाती है, साथ ही नोएडा क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर नो पार्किंग क्षेत्र में जन-सामान्य द्वारा वाहन खड़ा करने के कारण भी सुगम यातायात संचालन में दिक्कतों का सामना कारना पड़ता है।

उपरोक्त समस्याओं के निदान व् जन-सामान्य को सुगम यातायात प्रदान करने के उद्देश्य से यातायात पुलिस गौतमबुद्ध नगर द्वारा प्रौद्योगिकी का सहारा लेते हुए से0 57 चौराहे पर व दो वाहनों पर कैमरे लगवाए गए।

वरिष्ट पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा आज उक्त संसाधन व् वाहनों को हरी झण्डी दिखाकर शुभारम्भ किया गया। उक्त संसाधनों द्वारा यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले चालकों के फ़ोटो (नंबर प्लेट सहित) स्वतः लेकर कंट्रोल रूम में अवस्थित कम्प्यूटर को तत्काल भेज देगा तत्पश्चात वाहन के डाटाबेस से उक्त वाहन स्वामी की डिटेल लेकर चालान बनाया जायेगा व उसके पते पर प्रेषित किया जायेगा।

इस व्यवस्था से हम निम्न नियमों के उल्लंघनकर्ताओं के विरुद्ध प्रवर्तन की कार्यवाही कर सकेंगे-
1. लाल बत्ती का उल्लंघन
2. स्टॉप लाइन का उल्लंघन
3. बिना हेलमेट दोपहिया चलाने का उल्लंघन
4. दोपहिया वाहन पर तीन सवारी बैठाकर वाहन चलाना।
5. विपरीत दिशा में वाहन चलाना।
6. दोषपूर्ण नम्बर प्लेट
7. नो पार्किंग में वाहन खड़ा करना।
व अन्य यातायात नियमों का उल्लंघन|
गौतम बुद्ध नगर पुलिस का मानना है कि उक्त संसाधनों से हम यातायात नियमों का उल्लंघन रोकने व जन-सामान्य को सुगम यातायात प्रदान करने में काफी सहयोग मिलेगा।

कावड़ यात्रा की तैयारियो के लिए गौतमबुद्ध नगर पुलिस प्रशासन ने कसी कमर

नोएडा – सावन में शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा के लिए नोएडा पुलिस ने सेल का गठन कर दिया है। सेल सेक्टर-6 स्थित एसपी सिटी कार्यालय से काम कर रहा है। इंस्पेक्टर कृष्णवीर सिंह को सेल का प्रभारी बनाया गया है। उनके साथ एक एचसीपी और तीन सिपाहियों को शामिल किया गया है। एसपी सिटी अरुण कुमार सिंह ने बताया कि फिलहाल ये सेल अन्य जिलों से तालमेल और कांवड़ यात्रा से पूर्व की तैयारियों के लिए गठित किया गया है। बता दे की 9 जुलाई से कावड़ यात्रा शुरू हो रही है जो ७ अगस्त तक चलेगी , अन्य जिलों में कांवड़ की तैयारियां शुरू हो गई हैं। कांवड़ यात्रा के लिए आईजी व एडीजी स्तर पर अधिकारियों की बैठकें भी चल रही हैं। सेल इन बैठकों के बिंदुओं पर काम करेगा। आसपास के जिलों में 9 जुलाई से सावन की ड्यूटी शुरू होगी। नोएडा में 14 अगस्त से कांवड़ ड्यूटी लगाई जाएगी।
उसके लिए पुलिसकर्मियों की सूची तैयारी की जा रही है। साथ ही, पिछले वर्ष हुए आयोजनों की रिपोर्ट भी सेल द्वारा जांची जा रही है। उसी के आधार पर इस वर्ष के आयोजनों की अनुमति प्रदान की जाएगी।

एनआरआई ने दर्ज कराया 7 करोड़ हनी ट्रेप का मा मला।,युवती ने किया रेप केस

नोएडा – हनी ट्रैप का एक मामला नोएडा में सुर्ख़ियो में है हनी ट्रेप में फंसाकर एनआरआई से सात करोड़ रुपये की ठगी मामले में जिला न्यायालय ने थाना सेक्टर-20 पुलिस को आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच करने का आदेश दिया है। यह मामला भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक को व्यवसाय में साझेदार बनाने के नाम पर उसे निवेश कराने और फिर हनी ट्रैप में फंसाकर रकम हड़पने का है।
जॉर्जिया में रहने वाले भारतीय मूल के होटल कारोबारी भूषण लाल की मां और भाई परिवार के साथ नोएडा के सेक्टर-26 में रहते हैं। कारोबारी ने पुलिस को बताया कि कुछ समय पहले वह भारत आए थे। इस दौरान उनके एक परिचित ने उन्हें अपने रीयल एस्टेट कारोबार में निवेश कर साझेदार बनने को कहा। परिचित ने निवेश के बदले उन्हें मोटे मुनाफे का ऑफर दिया।
इसके बाद उसने कारोबारी को ग्रेटर नोएडा के टेक जोन-चार में एक बिल्डर साइट दिखाई और कंपनी के तीन अन्य निदेशकों से भी मुलाकात कराई। इसके बाद भूषण लाल ने उनकी कंपनी में सात करोड़ रुपये निवेश कर 25 फीसदी की हिस्सेदारी ले ली। 10 फरवरी को वह आरोपियों की कंपनी में साझेदारी की लिखापढ़ी करने पहुंचे। यहां कंपनी के निदेशकों के साथ एक युवती भी मौजूद थी। उन्होंने भूषण की मुलाकात युवती से कराई। आरोप है कि युवती ने उन्हें हनी ट्रैप में फंसाने के लिए नजदीकियां बढ़ाईं। भूषण जब दूसरी बार अमेरिका से आए तो युवती ने उन्हें अपने फ्लैट में ही ठहरा लिया।
आरोप है कि इस दौरान वह उनसे अलग-अलग बहाने से पैसे ऐंठती थी, लिहाजा कुछ समय बाद भूषण नोएडा में अपनी मां और भाई के पास रहने चले गए। जब कारोबारी ने युवती से दूरी बनानी शुरू कर दी तो वह आत्महत्या कर फंसाने की धमकी देने लगी। इसी दौरान भूषण को उनके रीयल एस्टेट कंपनी के साझेदारों ने बताया कि युवती गर्भवती है और उसने कारोबारी के खिलाफ दिल्ली के अशोक नगर थाने में एफआईआर दर्ज करा दी है।
आरोप है कि एफआईआर वापस लेने के नाम पर साझेदारों ने युवती संग मिलीभगत कर उनसे 41 लाख रुपये और ठग लिए। इसके बाद रियल एस्टेट कंपनी में उनके द्वारा निवेश किए गए सात करोड़ रुपये भी ठगने का प्रयास करने लगे। भूषण लाल के अनुसार उन्होंने नोएडा पुलिस से संपर्क कर रिपोर्ट दर्ज कराने का प्रयास किया, लेकिन उनकी एफआईआर दर्ज नहीं की गई। इसके बाद वह कोर्ट चले गए। सीजेएम कोर्ट ने थाना सेक्टर-20 पुलिस को एफआईआर दर्ज कर जांच करने का आदेश दिया। वहीं हनी ट्रैप में फंसाने वाली युवती ने अभी दो सप्ताह पहले एनआरआई कारोबारी के खिलाफ दिल्ली के न्यू अशोक नगर थाने में दुष्कर्म का मामला दर्ज करा दिया।

प्राइवेट अस्पताल में गलत इंजेक्शन लगाने से बच्ची की हुई मौत

नोएडा के सेक्टर 35 में स्थित सुमित्रा हॉस्पिटल के डॉक्टरों पर बच्ची के इलाज में कोताही बरतने का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है कि गलत इंजेक्शन लगाने की बजह से बच्ची की मौत हुई हैं।
गिझोर में रहने बाले मनोज कुमार की ढाई वर्षीय बच्ची छवि को पिछले कई दिनों से निमोनिया था जिसका इलाज सुमित्रा हॉस्पिटल के चैयरमैन डॉक्टर वी के गुप्ता की सेक्टर 12 बाली क्लीनिक से चल रहा था। बच्ची की हालत बिगड़ने पर उन्होंने ने कहा सेक्टर 35 हॉस्पिटल में भर्ती करने को कहा गया। बृहस्पतिवार को दोपहर 12 बजे पहुंचे और एमरजेंसी में आधे घंटे तक कोई डॉक्टर देखने नही आया । जब डॉक्टर आया और देखने के बाद जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया
परिजनों ने आरोप लगाया है कि जनरल वार्ड में करीब 2 बजे डॉक्टरों ने देखा और इंजेक्शन देने को कहा। इंजेक्शन लगने के बाद उसके मुंह से झाग आने लगा । तबियत औऱ बिगड़ गई, ओर आनन फानन में आई सी यू में शिफ्ट कराया गया लेकिन बच्ची की जान नही बचाई जा सकी। शाम करीब 5 बजे बच्ची की मौत हो गई।
इसकी सूचना परिजनों ने पुलिस को दी। मौके पर पहुंच कर पुलिस ने शव को कब्जे में ले कर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया।
एस पी सिटी नोएडा अरुण कुमार सिंह ने बताया कि ऐसे मामलों में जांच टीम का गठन होता है। टीम के आधार पर ही कार्यवाही की जायेगी। फिलहाल पंचायत नामा कर बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया गया है।